विविध स्थानों पर वेंकैया नायडू के टिप्पणी के विरोध में प्रदर्शन

  • ज्ञापन सौंपकर माफी मांगने की मांग

यवतमाल. राज्यसभा में नवनिर्वाचित विधायक की शपथ विधि के दौरान सभापति वेंकैया नायडू की एक टिप्पणी के विरोध में उमरखेड में जिजाऊ ब्रिगेड व पुरोगामी युवा ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं ने छत्रपति शिवाजी महाराज चौक में आंदोलन कर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की टिप्पणी का विरोध कर बैनर जलाया गया. ‘इट्स माय चेंबर, इट्स नॉट यूअर  हाऊस’ कहकर दिल्ली में उदयनराज भोसले ने सांसद के रुप में शपथ ली. किंतु उपराष्ट्रपति ने उनके जयघोष पर आपत्ति जताने से समस्त शिवप्रेमियों के भावनाओं को ठेस पहुंची है.

छत्रपति शिवराय यह सिर्फ महाराष्ट्र के ही नहीं बल्कि अखंड हिंदुस्थान के प्रेरणास्थान, श्रद्धास्थान होकर व्यंकय्या नायडू इस टिप्पणी के लिए माफी मांगे, ऐसी मांग भी तहसीलदार को सौंपे ज्ञापन से की गई. उमरखेड में  जिजाऊ ब्रिगेड की जिल्हाध्यक्षा सरोज  देशमुख,  पुरोगामी युवा  ब्रिगेड के तालुकाध्यक्ष नितीन शिंदे, रेखा भुते, सागर शेरे, रत्नदीप धुलध्वज, सागरताई शिंदे, सपना चौधरी , ज्ञानेश्वर लोखंडे, प्रशांत रुडे,  विश्वजीत गवले,  नितेश राठोड,  मुसब्बीर अली,  सुरज काळे  व शाहरुख पठाण आदी कार्यकर्ते इस समय उपस्थित थे. वणी में शिवसेना ने निकला मूक मोर्चा, वणी में शिवसेना की ओर से शहर में मूक मोर्चा निकाला गया तथा उपविभागीय अधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया.  ज्ञापन में वैंकैया नायडू की टिप्पणी का विरोध किया गया.

भाजपा सांसद उदयनराजे भोसले ने शपथ लेने के बाद जयघोष किया. इस दौरान नायडू ने उन्हें रोका. वणी में गुरुवार को इस टिप्पणी की निंदा करते हुए शिवसेना के पूर्व विधायक तथा जिला प्रमुख विश्वास नांदेकर के नेतृत्व में मूक मोर्चा निकाला गया. इसके साथ ही इसे लेकर ज्ञापन एसडीओ को सौंपा गया. इस अवसर पर गणपत लेडांगे, रवि बोढेकर, महेश चौधरी, प्रशांत बलकी, बंटी येरणे, विक्की चवने, कुणाल चहारे, डिमन टोंगे, नंदा गुहे, नीलेश करडभुजे, आदेश कोंगरे, रुपेश चंदे, वामन चिंचोलकर, उषा ढवस, विक्रांत चचडा समेत शिवसेना कार्यकर्ता बडी संख्या में उपस्थित थे. पुसद शहर में की गई निंदा, दिल्ली में उदयनराज भोसले ने सांसद के रुप में शपथ ली. किंतु उपराष्ट्रपति ने उनके जयघोष पर आपतति जताई. इसकी स्थानीय शिवसेना कार्यकर्ताओं ने नींदा की. इस अवसर पर राजन मुखरे, एड. उमाकांत पापीनवार, राजेंद्र साकला, दीपक काले, संतोष दरणे आदि उपस्थित थे. उन्होंने नायडू की टिप्पणी की निंदा करते हुए इस संबंध में राष्ट्रपति को आनलाइन ज्ञापन भेजा.