electricity bill
File Photo

    यवतमाल. 1 लाख 42 हजार के बिजली बिल का भुगतान नहीं होने के कारण यवतमाल पंचायत समिति बिजली आपूर्ति खंडित कर दी गई थी. इस कार्रवाई ने हलचल मचा दी. पिछले 11 महीनों से घरेलू, वाणिज्यिक और औद्योगिक ग्राहकों ने अपने बिजली बिलों का भुगतान नहीं किया है. इसने महावितरण के लिए कई समस्याएं खड़ी कर दी हैं. महावितरण ने बकाया बिजली बिलों की वसूली के लिए एक अभियान शुरू किया है.

    जिले में महावितरण के बिजली बिल की बकाया राशि 90 करोड़ से अधिक है. पहले चरण में औद्योगिक और व्यावसायिक ग्राहकों की वसूली की जा रही है. बिजली बिल की बकाया राशि का भुगतान नहीं करने पर सीधी कार्रवाई की जा रही है. बकाया बिजली का बिल नहीं भरने वालों की मुहिम बढ़ने वाली है. यवतमाल पंचायत यवतमाल पंचायत समिति पर लगभग 1 लाख 42 हजार रुपये का बिजली का बिल बकाया था.

    अधिकारियों की हुई बैठक

    यवतमाल कार्यालय में एक बैठक आयोजित की गई थी. बैठक में संचालन निदेशक भालचंद्र खंडाइत उपस्थित थे. घरेलू, वाणिज्यिक और औद्योगिक बकाया की वसूली पर स्पष्ट निर्देश दिए गए थे. यह भी बताया गया है कि वसूली के संदर्भ में लक्ष्य सीधे दिया जाना चाहिए.