बालिकाओं तक पहुंचाए सैनिटरी पैड योजना, समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने की अपील

    यवतमाल. राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत चलाए जा रहे मासिक किशोर स्वच्छता प्रोत्साहन योजना के तहत आशा स्वयंसेवक के माध्यम से एक सैनिटरी पैकेट 6 रुपये में बेचा जाता है. जिसका लाभ अधिक से अधिक लड़कियों को मिलने हेतु आंगनवाड़ी व बचत गुटों की सहायता से सफाई संदर्भ में जनजागृति करने व अस्मिता योजना के तहत कार्यों के लिए नए कार्यक्रम की योजना करने के निर्देश जिलाधिकारी अमोल येडगे ने दिए है.

    जिला स्वास्थ्य अधिकारी और जिला सर्जन कार्यालय के माध्यम से यवतमाल राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम की त्रैमासिक समीक्षा बैठक हाल ही में जिलाधिकारी येडगे की अध्यक्षता में ली गई थी. 

    घर-घर जाकर आयरन फोलिक एसिड की गोलियों का वितरण

    जिलाधिकारी ने आगे कहा कि ग्रामीण अस्पतालों और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में किशोर लड़कों और लड़कियों के लिए स्थापित मैत्री क्लिनिक में स्वास्थ्य, आहार और स्वच्छता पर सूचना पत्रक वितरित किए जाए. विकली आयरन फोलिक एसिड सप्लीमेंटेशन स्कीम के तहत 10 से 19 साल की उम्र के लड़कों और लड़कियों को एनीमिया को कम करने स्कूलों और कॉलेजों से सप्ताह में एक गोली आंगनवाड़ी से वितरित की जाती है और आंगनवाड़ी से स्कूल न जाने वाली लड़कियों को गोलियां दी जाती हैं.

    स्कूल और कॉलेज बंद होने के कारण आशा स्वयंसेवक घर पर आयरन फोलिक एसिड की नीली गोलियां बांट रही हैं. सभी लड़के- लड़कियों तक पहुंचे इस पर ध्यान दें. जिस लड़के-लड़कियों तक यह गोलिया पहुंची है,वह इस सेवन करें.

    इस दौरान मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. श्रीकृष्ण पांचाल, जिला सर्जन डा. तरंगतुषार वारे, सामान्य, अस्पताल, यवतमाल, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. पी. एस. चव्हाण, जिला मातृ एवं शिशु देखभाल अधिकारी, डा. सुहास कोरे, रेजिडेंट चिकित्सा अधिकारी डा. मनोज तगड़पल्लीवार, शिक्षा अधिकारी प्राथमिक प्रमोद सूर्यवंशी, उपशिक्षा अधिकारी माध्यमिक संदीप गुंडे राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक डा. प्रीति दुधे मौजूद थे.