strike

यवतमाल. केंद्र और राज्य सरकार के विरोध में कामगार संगठनों ने आज देशभर हड़ताल की. जिसमें यवतमाल में यह हड़ताल 100 प्रतिशत सफल रही. यह जानकारी मध्यवर्ती के राज्य उपाध्यक्ष नंदकुमार बुटे ने दी.

राज्य सरकारी कर्मचारी मध्यवर्ती संगठन के नेतृत्व में केंद्र एवं राज्य सरकारी कर्मचारी, बैंक, एलआईसी, सार्वजनिक क्षेत्र, जिला परिषद महासंघ, ग्रामसेवक, असंगठित कामगारों ने हड़ताल का ऐलान किया था. कामगार कानून में कुछ सुधार हुआ, जिसके विरोध में आंदोलन किया गया. पुरानी पेंशन योजना सभी को लागू करें. निजीकरण का विरोध, ठेका पद्धति का विरोध, किसान विरोधी बिल, बेरोजगारों को हर माह 7 हजार 500 रुपए बेरोजगारी भत्ता, गरीब को प्रति व्यक्ति 10 किलो अनाज, सभी रिक्त पदों को भरें आदि मांगों को लेकर सरकार का ध्यान खींचने के लिए देशभर में हड़ताल हुई.

कार्यालय के सामने किया ठिया आंदोलन

कोरोना के कारण मोर्चा का आयोजन रद्द किया गया. इसके अलावा आजाद मैदान पर एकत्रित होने की अनुमति नहीं दी गई. कर्मचारियों ने अपने-अपने कार्यालय के सामने ठिया आंदोलन कर यह आंदोलन सफल किया. तहसील स्तरीय कर्मचारियों ने तहसील स्थल पर हड़ताल सफल की. आज की इस हड़ताल से सभी तहसील के कार्यालय, जिला परिषद, प्राइमरी अध्यापक, पदवीधर अध्यापक, पुरानी पेंशन हक्क संगठन व अन्य संगठनों ने जिला परिषद के परिसर में धरना दिया. नर्सेस ने कोरोना और अन्य मरीजों की सेवा को खंडित न करते हुए आंदोलन में शामिल होकर भी सरकारी कर्तव्य निभाया.