Crop Loan

    यवतमाल . जिन किसानों को पुराने बैंक ऋणों का भुगतान नहीं करने के कारण नया फसल ऋण नहीं मिलता हैं. उन्हें प्रत्येक बैंक स्तर पर एकमुश्त ऋण चुकौती योजना (ओटीएस) का लाभ उठाना चाहिए. यदि किसान इस योजना का लाभ उठाते हैं तो उन्हें बैंक की नीति के अनुसार चुकाई जाने वाली ऋण राशि पर छूट मिलेगी. 

    3 लाख तक का ऋण जीरो ब्याज पर उपलब्ध

    बैंक से 3 लाख रुपये तक का फसल ऋण शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर उपलब्ध होगा, जिला कहा उपपंजीयक रमेश कटके ने कहा है. खरीफ फसल ऋण वितरण को लेकर कल प्रमुख राष्ट्रीयकृत बैंकों के जिला समन्वयकों की समीक्षा बैठक हुई. सभी बैंकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे. 

    बैठक में फसल ऋण वितरण की समीक्षा की गई और सभी प्रमुख बैंकों को लक्ष्य के अनुसार फसल ऋण का वितरण करने का निर्देश दिया. साथ ही सभी बैंकों को 60 प्रश ऋण वितरण का लक्ष्य 30 जून तक पूरा करने के निर्देश दिए. सरकार 11 जून तक डा. पंजाबराव देशमुख ब्याज रियायत योजना का दायरा बढ़ा दिया गया है. इसके तहत जिन किसानों ने 2021-22 में 3 लाख रुपये तक का फसल ऋण लिया है. निर्धारित समय के भीतर ऋण चुकाया है, उन्हें शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण मिलेगा.

    किसानों को फसल ऋण मूलधन के बराबर ही चुकाना होगा. ब्याज में छूट प्राप्त करनी होगी. बैंकों ने किसानों को निर्देश दिया है कि वह किसान क्रेडिट कार्ड के जरिए ही कर्ज बांटें. बैंक स्तर पर किसान क्रेडिट कार्ड के वितरण के साथ कितने किसान खाताधारक बचे हैं? सभी जानकारी संबंधित बैंकों द्वारा तहसीलदार, तहसील के सहायक रजिस्ट्रार को उपलब्ध कराई जानी चाहिए. किसानों को फसल ऋण आसानी से उपलब्ध हो सके. बैंकों से किसानों को उनकी ओटीएस योजना के बारे में जानकारी प्रदान करने का भी आग्रह किया गया.