जिलाधिकारी ने ली खनिज प्रतिष्ठान प्रबंधन समिति की बैठक

यवतमाल. जिले में विभिन्न एजेंसियों से प्राप्त प्रस्तावों पर चर्चा के लिए जिला खनिज प्रतिष्ठान प्रबंधन समिति, जिलाधिकारी एम. देवेंद्र सिंह ने बैठक बुलाई और जायजा लिया. इस अवसर पर जिप सीईओ डा. श्रीकृष्ण पांचाल, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय ठमके, जिला खनिकर्म अधिकारी राजेंद्र गोसावी आदि उपस्थित थे.

बैठक में स्वास्थ्य, जल आपूर्ति, ऊर्जा, शिक्षा, जल संसाधन, महिला और बाल कल्याण, कौशल विकास, भौतिक अवसंरचना, ऊर्जा और जलग्रहण विकास आदि के विभिन्न प्रस्ताव प्रस्तुत किए गए. इन प्रस्तावों पर गहनता से चर्चा की गई. साल 2020-21 व 2021-22 के लिए, वास्तविक खदान बाधित क्षेत्र में उच्च व अन्य प्राथमिकता वाले क्षेत्रों के लिए कुल 240 करोड रुपए का प्रारूप तैयार किया गया है. कुल 130 कोटी 43 करोड रुपए के कुल 737 प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं.

जिला खनन अधिकारी ने कहा कि उच्च ओर अन्य प्राथमिकता वाले मामलों के तहत सीधे प्रभावित क्षेत्रों में 3582.71 लाख रुपए के कुल 263 प्रस्ताव प्राप्त हुए, जबकि अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित क्षेत्रों में 9461 लाख रुपए के 474 प्रस्ताव प्राप्त हुए, ऐसी जानकारी जिला खनिज अधिकारी ने दी. विभिन्न एजेंसियों द्वारा जिला खनिज प्रतिष्ठान प्रबंधन समिति को प्रस्तुत प्रस्ताव की जांच की जाएगी.

बैठक में लोक निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता चंद्रकांत मरपलीकर, पांढरकवडा लोक निर्माण विभाग क्र. 1 के कार्यकारी अभियंता प्रकाश बूब, जि. प. निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता रा. ना. सुरकर, निर्माण विभाग क्र. 2 के कार्यकारी अभियंता प्रदीप देशटवार, सिंचाई विभाग के कार्यकारी अभियंता अ. ना. खंडारे, जि.प. के ग्रामीण जलापूर्ति विभाग के कार्यकारी अभियंता प्रदीप कोल्हे, जिला व्यवसाय शिक्षण व प्रशिक्षण अधिकारी महेशकुमार सिडाम, माविम समन्वय अधिकारी रंजन वानखेडे आदी उपस्थित थे.