पैनगंगा में आयी बाढ से हजारो हेक्‍टर जमीन पानी में

  • विदर्भ- मराठवाडा का संपर्क तुटा,
  • नागपूर- तुलजापूर मार्ग बंद

ढाणकी. गत सप्ताह से शुरू मुसलाधार बारीश से परिसर में ओर पैनगंगा नदी के जयपूर बॅरेज जिला वाशिम के बांध से विसर्ग बढने से ईसापुर बांध में 100 फिसदी पानी है. इस बांध के  सात गेट खोलने से पैनगंगा नदी तट के मारलेगाव का  हदगाव उमरखेड पूल पानी के  नीचे आया. जिससे पुलिस ने यहा से यातायात बंद की है. इसापूर बांध के 14 सितंबर को खोले गए दरवाजे बंद नही किए गए, साथही मुसलाधार बारीश से नदीनालों को बाढ आयी. 

पैनगंगा सीमा पर स्थित मराठवाडा और विदर्भ की  हजारो हेक्टेयर खेती पानी में गई, जिससे किसानों का काफी नुकसान हुआ है. पैनगंगा नदी पर का शेंबालपिंपरी – कलमनुरी पूल, बिटरगाव करोडी पुल, हदगाव – उमरखेड पुल, पिंपलगाव टाकली पुल ,मुरली – इसापूर यह सभी पानी के न नीचे है. जिससे विदर्भ मराठवाडा का संपर्क टूट गया है. नागपूर – तुलजापूर राष्ट्रीय महामार्ग पर  हदगाव – उमरखेड यह पुल पानी के  नीचे होने से पुलिस ने यहा से यातायात बंद की है. पैनगंगा नदी में बढता जलस्तर देख नदीतट के गावों के लोगों को प्रशासन ने सतर्क रहने की चेतावनी दी है.