File Photo
File Photo

यवतमाल. विगत कुछ दिनों से जिले के मौसम ने करवट बदली है. जिले के पुसद व आर्णी तहसील, उमरखेड के मुलावा परिसर में बेमौसम बारिश हुई. पुसद तहसील के गौल बु. परिसर में शनिवार को सुबह से बादल छाए हुए थे. 

यवतमाल शहर में भी आसमान में बादल छाए थे, विगत कुछ दिनों से घर में टंगे हुए स्वेटर तथा गर्म कपडे आज सुबह फिर से बाहर निकाले. सुबह 10 बजे के दौरान गौल परिसर में मुसलाधार बारिश हुई. बारिश का पानी बहने लगा. अचानक हुई बारिश से किसानों भागादौडी हुई. पहले ही वापसी की बारिश ने किसानों को रुला दिया तथा पैनगंगा के बाढ में उस परिसर के किसानों का भारी नुकसान हुआ.

इस बेमौसम बारिश ने गन्ने का ऐरिया से प्रचलित गौल बु., जगापुर, उमरखेड तहसील का शेंबालपिंपरी इस परिसर को बडा नुकसान हुआ. इस परिसर में गन्ना कटाई की भागदौड शुरू है. अधिकतर किसानों के खेत में गन्ने की कटाई शुरू है. इस कडी में बेमौसम बारिश हुई. इस वजह से गन्ने की यातायात करनेवाले वाहन खेत में ले जाना असंभव होने के कारण कुछ दिन गन्ना कटाई बंद पडेगी, ऐसा डर किसानों को है. कटे हुए गन्ने को किसानों को खेत में ही सुखाना पडेगा.

गुन्ना खेत में ही सुखकर हलका हो जाएगा, ऐसा डर लगा है. बारिश और ठंडक यह दोहरे संकट का सामना किसानों को करना पड रहा है. बेमौसम बारिश से किसानों को भारी नुकसान होनेवाला है. तुअर फसल को बादल छाने की वजह से कीटों प्रभाव होने का खतरा बढ गया है. दिन ब दिन किसानों की प्राकृतिक बदलावों से किसानों की चिंता बढा रखी है.