यवतमाल के नवरात्रोत्सव में महिलाओं की असुविधा

  • सिर्फ महिलाओं के लिए सुलभ प्रसाधानगृह की आवश्यकता

यवतमाल. पूरे महाराष्ट्र में परिचित रही नगर परिषद को स्वच्छता का पुरस्कार मिला है. नवरात्र महोत्सव के काल में आनेवाले सभी महिलाओं के लिए सुलभ प्रसाधनगृह की सुविधा न होने के कारण महिलाओं को कई दिक्कतों का सामना करना पडता है. देश में दूसरे नंबर का दुर्गात्सव यवतमाल में मनाया जाता है. सप्तमी के दिन से मां दुर्गा के दर्शन के शहर समेत जिले से महिला श्रद्धालूओं की भीड बढ रही है, लेकिन नगर पालीका प्रशासन इस प्रमुख समस्या को लेकर क्यों अनदेखी कर रहा है? ऐसा सवाल नागरिकों से उपस्थित हो रहा है. शहर में लगभग 16 तहसीलों से महिला, पुरुष दुर्गा मां के दर्शन के लिए शहर में दाखिल होते है, अष्टमी से यह भीड अधिक होने की संभावना है. महिलाओं के साथ छोटे बच्चे भी आते है.

शहर की भौगोलिक स्थिति देखकर शहर के प्रमुख मार्गों पर पालीका प्रशासन ने कहीं पर भी महिलाओं के लिए सुलभ प्रसाधनगृह की व्यवस्था नहीं की है. इस वजह से महिलाओं के सामने बडी समस्या निर्माण हो रही है. विशेषकर यवतमाल के प्रमुख माने जानेवाले दत्त चौक परिसर में तीन महत्वपूर्ण दुर्गा मां की प्रतिष्ठापना की गई है. कुछ स्थल पर महिलाओं के लिए किसी भी प्रकार की प्रसाधन की सुविधा नहीं है, दूसरी तरफ शहर के मेन लाईन परिसर में मां दुर्गा के दर्शन के लिए समूचे जिले से श्रद्धालू आते है. इनमें महिलाओं की संख्या अधिक रहती है. इस जगह पर भी असुविधा है. साप्ताहिक बाजार परिसर में शीतला माता मंदिर में दर्शन के लिए दूरदराज तडके 3 बजे से रात 12 बजे तक महिलाओं की भीड रहती है. इस परिसर में भी महिलाओं के लिए एक भी प्रसाधानगृह नहीं बनाया गया है, नगर पालीका प्रशासन द्वारा नवरात्रौकाल में रेडिमेड टायलेट लगाने की व्यवस्था करने की आवश्यकता है. पालीका प्रशासन की ओर से व्यवस्था करने की मांग श्रद्धालूओं से की जा रही है.

नगर पालीका प्रशासन इस समस्या पर उचित निर्णय लेगा, नवरात्रकाल में महिलाओं के लिए प्रसाधनगृह की समस्या गंभीर है. शहर के जिस-जिस क्षेत्र में महिलाओं की असुविधा होती है, उस पर जल्द से जल्द ध्यान देकर नगर पालीका प्रशासन इस समस्या पर उचित निर्णय लेकर महिलाओं की हर तरीके से सुविधा का इंतजाम करने का प्रयास करेगी. – कांचनताई चौधरी, नगराध्यक्षा, यवतमाल.

महिलाओं के लिए व्यवस्था करना जरूरी, यवतमाल शहर में मां दुर्गा के दर्शन के लिए आनेवाली हर महिलाओं की सुविधा का इंतजाम करना जरूरी है. सुविधा होने के बाद महिलाओं को सुरक्षा का अहसास होगा. महिलाओं को दिक्कतों का सामना नहीं करना पडेगा. – माधुरी आडे, पूर्व जिप अध्यक्ष यवतमाल.