छह माह पश्चात खुला यवतमाल का साप्ताहिक बाजार

यवतमाल. कोरोनाकाल में अबतक साप्ताहिक बाजार पूरे तरीके से बंद था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन्होंने मार्च 2020 में लॉकडाउन की घोषणा करने के बाद से लेकर अबतक साप्ताहिक बाजार समेत विविध बाजार भराने पर पाबंदी लगाई गई थी. पूरे छह माह के बाद साप्ताहिक बाजार खुला हुआ. लेकिन कोरोना महामारी के दहशत के लोग बाजार में कम संख्या में आए. दुकाने तो खुली लेकिन दुकानदारों को ग्राहकों का इंतजार करना पडा. सुबह 10 बजे से बाजार खुला हुआ, शाम को 4 बजे से भीड इकट्ठा शुरू हुई. हर तरीके से दुकानदार ग्राहकों को इंतजार करते हुए दिखाई दिए. रालेगांव, दारव्हा, नेर आदी तहसीलों से बाजार में दुकानदार अपना सामान बेचने के लिए आए और तहसील के किसानों ने सब्जियां बाजार में बेचने को लाई. ग्राहकों की ज्यादातर भीड सब्जी की दुकानों में दिखाई दी.

फिश मार्केट भी पूरी तरह से खुला, लेकिन ग्राहकों की संख्या कम दिखाई दी. सब्जियों के दाम आसमान छू रहें है. इसमें सस्ती सब्जियां खरीदने में ग्राहकों कल दिखाई दिया. 20 से 30 रुपए किलो से मिलनेवाला प्याज आज साप्ताहिक बाजार में 50 से 60 रुपए किलो तक बेचा जा रहा था. कुछ लो क्वालिटी का प्याज और गीला प्याज 40 रुपए किलो तक बेचा गया. त्योहार के इस मौसम में सब्जियों के दामों ने आसमान छू लिया तो अन्य जिवनावश्यक वस्तूओं का भी दाम बडा है. कपडे के बाजार में ही लोगों का आना-जाना दिखाई दिया. साप्ताहिक बाजार में सस्ते कपडे का बाजार लगता है, उसपर ग्रामीणों की संख्या काफी मात्रा में खरीददारी करते हुए दिखाई दी. 

साप्ताहिक बाजार पहला दिन होने के कारण ग्राहकों की संख्या कम दिखाई दी. मेन मार्केट में फलों के दाम ज्यादा है. 100 रुपए से लेकर 150 रुपए किलो तक सफरचंद के मूल्य है. साप्ताहिक बाजार में 80 से 100 रुपए किलो बेचने पडता है. केले साप्ताहिक बाजार में 30 से 40 रुपए दर्जन बेचते है, वहीं मेन मार्केट के व्यापारी 40  से 50 रु.दर्जन दाम है. फिर बाजार में लोगों की संख्या अल्पमात्रा में दिखाई दी.

शेख शब्बीर, फल विक्रेता, यवतमाल.

धीरे-धीरे लोग बढेंगे, लोगों को साप्ताहिक बाजार शुरू हुआ इसकी जानकारी पूरी तरह से नहीं है. ग्रामीण इलाकों में यवतमाल का साप्ताहिक बाजार शुरू होने की अभीतक सूचना मिली नहीं, जिनको मिली है, वे बाजार में आ रहें है. जैसे-जैसे लोगों को पता चलेगा, धीरे-धीरे लोग बढेंगे, इससे दोगनी भीड अगले सप्ताह में बाजार में दिखाई देंगी.

रामटेके, सब्जी विक्रेता, यवतमाल.