निलवंडे बांध कैनाल निधि में किसी प्रकार की कटौती नहीं, 105 करोड़ तत्काल उपलब्ध

अहमदनगर. राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात के लगातार पृष्ठपोषण से नगर जिले के उत्तर क्षेत्र के लिए वरदान साबित होनेवाले निलवंडे बांध के कैनाल के लंबित काम गति से पूरे कर वर्ष 2022 तक पानी देने का उद्देश्य रखा गया है. निलवंडे कैनाल की निधि में किसी प्रकार की कटौती नहीं होगी. इस काम के लिए राज्य सरकार ने 105 करोड़ रुपए तत्काल उपलब्ध कराने का निर्णय किया गया है. ऐसी जानकारी राज्य के जलसंपदा मंत्री जयंत पाटिल ने दी.

निलवंडे बांध कैनाल कामों के लिए निधि की उपलब्धता और कामों की प्रगति की समीक्षा कराने के लिए मंत्रालय में एक उच्चस्तरीय बैठक का आयोजन किया गया था. इस बैठक में जयंत पाटिल बोल रहे थे. राजस्व मंत्री बालासाहब थोरात, राज्यमंत्री प्राजक्त तनपुरे, विधायक आशुतोष काले,विधायक डॉ.किरण लहामटे,जलसंपदा विभाग के सेक्रेटरी प्रवीण सिंह परदेशी,गोदावरी मराठवाडा सिंचाई मंडल के कार्यकारी संचालक शिंदे आदि उपस्थित थे. 

 2022 तक कैनाल से पानी देने का उद्देश्य 

इस बैठक में जलसंपदा मंत्री जयंत पाटिल ने कहा कि राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात के पृष्ठपोषण के कारण निलवंडे बांध का 100 फीसदी काम पूरा हुआ है. कैनाल के कामों के लिए 100 फीसदी जमीन उपलब्ध है. इनमें से 70 फीसदी कैनाल के काम भी पूरे हुए हैं. शेष काम के लिए गति देने का निर्णय राज्य की आघाडी सरकार ने किया है. लेकिन कोरोना महामारी के स्थिति में काम में बाधा निर्माण हुई थी. अब फिर से कैनाल के लंबित काम शुरू हुए है. सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने काम को शीघ्र गति से पूरा कराने के लिए विशेष ध्यान देने की सूचना मंत्री पाटिल ने बैठक में की. उसी तरह कैनाल के काम जल्द पूरे कर वर्ष 2022 तक कैनाल से पानी देने का उद्देश्य रखा गया है.ऐसी जानकारी पाटिल ने दी. निलवंडे बांध के कैनाल काम की निधि में किसी प्रकार की कटौती किए बिना निधि उपलब्ध कराने के लिए राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात ने जलसंपदा मंत्री जयंत पाटिल को धन्यवाद दिया है.