अमरावती-मलकापुर राजमार्ग के चौपदरीकरण का कार्य धीमा

  • आंशिक रूप से बने पुलों और 
  • गड्ढों के कारण दुर्घटनाएं बढ़ी

अकोला. राजमार्ग क्र.6 के अमरावती से मलकापुर तक का 194 कि.मी. के रास्ते का चौपदरीकरण कार्य पिछले तीन वर्षों से काफी मंद गति से शुरू है. जिसके कारण यातायात में बड़ी बाधा निर्माण हो रही है. राजमार्ग में आंशिक रूप से निर्मित पुलों और गड्ढों के कारण इस मार्ग से यात्रा करना जीवन के लिए खतरा बनता जा रहा है. पिछले ढाई वर्षों से इस राजमार्ग के चौपदरीकरण का कार्य शुरू है. प्रारंभ के कुछ माह में निर्माण कार्य की गति बेहतर थी. लेकिन जिस तरह निर्माण कार्य आगे बढ़ता गया उस तरह विकास कार्य में बाधाएं बढ़ गयी हैं. कभी किसानों और कभी जनप्रतिनिधियों ने यह काम बंद कर दिया.

आईएलएफएस (इन्फ्रास्टक्चर लिजिंग एन्ड फायनान्शीअल सर्विसेस) इस कंपनी ने प्रथम चरण का कार्य हाथ में लिया लेकिन उसे फायदा न होने की बात कहते हुए कंपनी ने निर्माण कार्य अधुरा छोड़ दिया. यह काम 2017 में लगभग 2400 करोड़ रुपये के बजट के साथ शुरू किया गया था. नांदुरा में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की बैठक में यह कार्य जल्द ही पूर्ण किए जाने का विश्वास उन्होंने निर्माण किया था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. कंपनी ने यह कार्य अधुरा छोड़ देने के कारण पिछले साल भर से काम को पूरी तरह से बंद था. अब यह चौपदरीकरण का कार्य तीन कंपनियों द्वारा पूरा किया जा रहा है.

इस सड़क कार्य को प्रशासनिक स्वीकृति मिल गई है. राजपत इन्फ्रा को पहले चरण का कार्य अमरावती से कुरणखेड़, कुरणखेड़ से शेलद तक दिया गया है. और शेलद से नांदुरा तक का निर्माण कार्य मुंटे कारलो को तथा नांदुरा से मलकापुर तक का निर्माण कार्य कुच इन्फ्रास्ट्रक्चर को दिया गया है. मार्च माह से निर्माण कार्य को गति मिलेगी यह अपेक्षा राजमार्ग के प्राधिकरण अधिकारियों द्वारा प्रकट की गयी है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 5 दिसंबर को हिंदूहृदय सम्राट बालासाहब ठाकरे महाराष्ट्र समृद्धि राजमार्ग का निरीक्षण किया.

नागपुर, वर्धा, अमरावती, वाशिम व बुलढाना जिले के लिए इस महत्वाकांक्षी प्रकल्प के पहले चरण का कार्य नागपुर से शिर्डी तक का निर्माण कार्य 1 मई तक पूर्ण होकर यह यातायात के लिए खोले जाने का विश्वास मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा प्रकट किया गया. अमरावती की पालकमंत्री एड.यशोमति ठाकुर सहित कांग्रेस के नेताओं ने राजमार्ग विस्तारीकरण का मुद्दा उपस्थित करने पर इससे संबंधित बाधाएं दूर कर शीघ्र कार्य पूर्ण करने के निर्देश मुख्यमंत्री ठाकरे ने दिए. जिससे अब इस कार्य को गति मिलेगी यह अपेक्षा प्रकट की जा रही है. 

आंशिक बने पुल घातक

अकोला-खामगांव मार्ग पर रास्ते पर कई स्थानों पर गड्ढे निर्माण होने से इस रास्ते की दुरुस्ती करने की मांग जोर पकड़ रही है. लेकिन इस ओर संबंधितों द्वारा अनदेखी की जा रही है. राजमार्ग के निर्माण के दौरान बनाए गए आंशिक पुल भी धोखादायक साबित हो रहे हैं.

तीन नई कंपनियों को काम दिया गया-ब्राम्हणकर

राज्य महामार्ग प्राधिकरण, अमरावती के प्रकल्प संचालक विलास ब्राम्हणकर ने बताया कि आईएलएफएस कंपनी द्वारा कुछ महीने पहले काम बंद करने के बाद, तीन नई कंपनियों को विशिष्ट किलोमीटर पर काम दिया गया है. मिट्टी का कार्य शुरू हो गया है. वास्तव में कार्य मार्च-अप्रैल के बाद ही शुरू होगा. रास्तों के गड्ढों की जिम्मेदारी भी कंपनी की होगी. अभी मरम्मत का काम चल रहा है जबकि कुछ हिस्से पूरे हो चुके हैं.

राजमार्ग चौपदरीकरण कार्य को  शीघ्र पूर्ण करने की आवश्यकता -रणधीर सावरकर

अकोला पूर्व के भाजपा विधायक रणधीर सावरकर ने कहा कि सड़कें विकास का मार्ग हैं. राजमार्ग चौपदरीकरण के कार्य की तत्काल आवश्यकता है. पहले ही बहुत देर हो चुकी है. राजमार्ग कार्य में तेजी लाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं.