Representative Image
Representative Image

    • इससे बेरोजगारी बढ़ेगी
    • जिला प्रशासन सहानुभूति पूर्वक विचार करे-योगेश अग्रवाल  

    अकोला. जिला प्रशासन द्वारा जो नये आदेश जारी किए गए हैं उसके अनुसार होटल व्यवसाय को दोपहर 4 बजे तक का समय दिया गया है. तथा 4 से 8 बजे तक और शनिवार, रविवार को सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक होम डिलेवरी का समय दिया गया है. यह समय काफी कम है. इस बारे में प्रशासन ने सहानुभूति पूर्वक विचार करना चाहिए यह विचार आज बातचीत के दौरान अकोला जिला होटल एसो. के अध्यक्ष योगेश अग्रवाल ने प्रकट किए. 

    बेरोजगारी बढ़ेगी

    उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में लोग होटल और रेस्टारेंट व्यवसाय से जुड़े हुए हैं. इनकी तकलीफ भी समझी जानी चाहिए. समय यदि सिर्फ 4 बजे तक रहेगा तो इससे निश्चित ही बेरोजगारी बढ़ेगी और इसके साथ साथ होटल व्यवसायियों का नुकसान भी होगा. जिन होटलों में मिठाई, नाश्ता आदि मिलता है उनकी बिक्री दोपहर 4 बजे तक पूरी नहीं हो पाती है, इस कारण भी नुकसान होगा. इसी तरह सही मायने में यदि देखा जाए तो होटल, रेस्टारेंट आदि में भोजन के लिए लोग अधिकतर रात को ही आना पसंद करते हैं अपना काम पूरा होने के बाद लोग होटलों में डीनर के लिए आते हैं. देखा जाए तो यह व्यवसाय ही मुख्य रूप से रात का ही रहता है.

    उस तुलना में दोपहर को लंच के लिए आने वालों की संख्या काफी कम रहती है. इसी तरह यदि होटल, रेस्टारेंट दोपहर 4 बजे बंद करने पड़ेंगे तो वहां काम करनेवाले लोगों की आवश्यकता नहीं रहेगी. क्योंकि होटल रेस्टारेंटों में भीड़ ही शाम 7 के बाद होती है. इसलिए कम से कम रात 10 बजे तक का समय चाहिए. समय कम होने से निश्चित ही होटल और रेस्टारेंट व्यवसाय से जुड़े अनेक लोगों को बेरोजगारी का सामना करना पड़ सकता है. 

    नियमित नुकसान होता है

    जिन होटलों में मिठाई की दूकानों में नियमित रूप से दूध की मिठाइयां बनाई जाती हैं, उनकी बिक्री तो 4 बजे तक हो ही नहीं सकती है. बंगाली मिठाइयां तो ऐसी रहती हैं कि उन मिठाइयों का उपयोग तुरंत करना पड़ता है. इस व्यवसाय से जुड़े दूध व्यवसाय को भी काफी धक्का लगता है. क्योंकि जब दूकान ही दोपहर 4 बजे बंद करनी है तो कोई भी दूध अधिक लेकर क्या करेगा. योगेश अग्रवाल ने कहा कि दूध उत्पादक किसानों का हजारों लीटर दूध खोवा, मिठाई आदि बनाने के लिए किया जाता है. इस तरह इस दूध व्यवसाय को भी समय कम होने से काफी तकलीफ का सामना करना पड़ेगा. 

    सहानुभूति पूर्वक विचार किया जाए

    इस बारे में उन्होंने कहा कि होटल, रेस्टारेंट आदि सभी जगह कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गयी सभी सूचनाओं का पालन किया जाता है. इस बारे में सभी होटल व्यवसायी, प्रशासन तथा सरकार को पूरा सहयोग देते हैं. उपरोक्त सभी मुद्दों को देखते हुए प्रशासन तथा सरकार द्वारा सहानुभूति पूर्वक विचार करते हुए थोड़ा समय बढ़ाकर देना चाहिए, यह भी योगेश अग्रवाल ने कहा.