भूमि अभिलेख के 2 कनिष्ठ लिपिक नामजद, झूठा फेरफार किया

    अमरावती. भूमि अभिलेख कार्यालय के कंप्यूटर विभाग में कार्यरत 2 लिपिक ने एक शख्स को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से झूठा फेरफार कर फर्जी कागजात बनाकर पीआर कार्ड खरीदी बिक्री कर फर्जीवाड़ा करने का मामला सामने आया है. भूमि अभिलेख के उप अधीक्षक अविनाश जगन्नाथ दशरथकर( 53) की शिकायत पर गाडगे नगर पुलिस ने आरोपी कनिष्ठ लिपिक योगेश शिरभाते, कनिष्ठ लिपिक स्वप्निल उंबरकर समेत अन्य आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

    भूमि अभिलेख में फर्जीवाड़ा 

     पुलिस के सूत्रों के अनुसार 22 नवंबर 1999 से 7 जून 2021 तक इस समय अवधि के दौरान भूमि अभिलेख कार्यालय में कंप्यूटर सेक्शन में कार्यरत आरोपी कनिष्ठ लिपिक योगेश शिरभाते  व स्वप्निल उबंरकर ने अखिव पत्रिका तैयार करने का का काम करते थे. जिन्होंने इस समय अवधि के दौरान धोखाधड़ी करने के इरादे से प्रकाश विठोबा ठाकरे के नाम से झूठा फेरफार कर फर्जी अखिव पत्रिका तैयारकर धोखाधड़ी के इरादे से संबंधित व्यक्ति को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य उसकी खरीदी बिक्री का व्यवहार किया.

    वहीं फर्जी अखीव पत्रिका में क्षेत्रफल 7098 चौरस मीटर दिखाया गया, यह बात भूमि अभिलेख के उप अधीक्षक अविनाश दशरथकर के ध्यान में आते ही उन्होंने गाडगे नगर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, जिसके चलते दोनों आरोपियों के खिलाफ जालसाजी करने व सरकार के साथ धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.