ऊर्जामंत्री के  पुतले को पीटा,BJP ने जताया तीव्र आक्रोश

अमरावती. राज्य के महावितरण बिजली ग्राहकों को किसी भी प्रकार की बिजली बिल में छूट तथा सहूलियत नहीं दी जाएगी. बिजली का इस्तेमाल किया है, तो बिजली बिल अदा करना ही पड़ेगा. ऐसा कहने वाले ऊर्जा मंत्री नितिन राऊत के प्रतीकात्मक पुतले को भाजपा कार्यकर्ताओं ने जमकर लातों- घूसों से पीटा. ऊर्जामंत्री के  बयान का निषेध कर भाजपा ने तीव्र आक्रोश जताया.  पुतले को जलाने का प्रयास किया, लेकिन पुतला फूंकने के पूर्व ही पुलिस ने जब्त किया. 

बिजली आपूर्ति खंडित करने का प्रयास 

डॉ. अनिल बोंडे व निवेदिता चौधरी के नेतृत्व में  गर्ल्स हाईस्कूल चौक के पास स्थित महावितरण कार्यालय के सामने आंदोलन किया. इस दौरान निवेदन देने के बाद जब नागरिकों को बिजली बिल से राहत नहीं मिलती तो महावितरण के अधिकारी भी कैसे उजाले में रहेंगे ऐसा कहते हुए कार्यालय की बिजली खंडित करने का प्रयास कार्यकर्ताओं ने किया. लेकिन आंदोलन के दौरान तैनात पुलिस प्रशासन ने यह प्रयास फेल कर दिया. आंदोलनकर्ताओं ने भी  आंदोलन के दौरान पुतला फूंकने का प्रयास किया लेकिन वह भी असफल रहा. दौरान पुलिस व कार्यकर्ताओं के बीच बहस भी हुई. 

प्रत्येक तहसील में करेंगे आंदोलन 

ऊर्जामंत्री के खिलाफ नारेबाजी करते हुए नागरिकों को बढ़ाकर दिया गया बिल माफ करने की मांग की. कार्यकर्ताओं ने कहा कि कोरोना संसर्ग महामारी के दौरान घरेलु बिजली बिलों के साथ ही कृषि पंपों के बिजली बिल, उद्योग धंधों के बिजली बिलों को सरकार माफ नहीं करती है तो प्रत्येक तहसील में आंदोलन करने की चेतावनी दी आंदोलन में डा. अनिल बोंडे के साथ ग्रामीण जिलाध्यक्ष निवेदिता चौधरी के साथ सैकड़ों कार्यकर्ता शामिल हुए.