चौधरी, नावंदर के पद पर पार्षदों की आपत्ती

  • शहर जिलाध्यक्ष पातुरकर को सौंपा पत्र

अमरावती. भाजपा सरकार के खिलाफ लगातार आंदोलन करने के बावजूद पार्टी की ओर कार्यकारिणी में उन्हीं सदस्यों को पद दिये जाने से आहत होकर महानगरपालिका के पार्षदों ने आपत्ती जताई है. इस संदर्भ में मंगलवार को पद से बरखास्त करने को लेकर भी एक पत्र पार्षदों ने शहर जिलाध्यक्ष किरण पातुरकर को सौंपा. इस पत्र मनपा गलियारों में दिन भर चर्चा का विषय बना रहा.   

सेव मरिट सेव नेशन में विरोध

भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी में सदस्य के रुप में रश्मी नावंदर की नियुक्ती की गई. जबकि डा. अविनाश चौधरी को भी भाजपा वैद्यकिय आघाडी में मुख्य पद पर नियुक्त किया गया. इसकी जानकारी पार्षदों को प्राप्त होते ही भाजपा में ही विरोध के सूर उमटने लगे. जिस आरक्षण को लेकर राज्य में किये गये आंदोलन के चलते सेव मेरिट सेव नेशन के माध्यम से दोनों सदस्यों ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाये थे. जिस पार्टी में है उसी पार्टी के विरोध में आंदोलन कर सरकार को टारगेट बनाने के बावजूद उन्हीं पदाधिकारियों को पार्टी के वरिष्ठ कार्यकारिणी में स्थान देना कहां तक उचित है. उल्लेखनीय है कि डा. अविनाश चौधरी स्नातकोत्तर चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी डा. रणजीत पाटिल के विरोध में बतौर निर्दलिय चुनाव लडे थे.

इस संदर्भ में शहर जिलाध्यक्ष किरण पातुरकर से लगातार संपर्क किया गया, लेकिन वह बैठक में व्यस्त रहने से पार्षदों के पत्र को लेकर क्या निर्णय लिया जायेगा इस संदर्भ में बात नहीं हो पायी.