बंद मंदिर के व्दार आस्था के फूल, अंबा माता के दर्शन के लिए तांता

अमरावती. कोरोना के चलते मंदिर बंद होने के बावजूद नवरात्रि में अंबा माता दर्शन के लिए भक्त आ रहे है. जिसके चलते मंदिर के सामने श्रध्दालूओं की भीड़ उमड़ रही है. जिसमें महिला व युवाओं की संख्या अधिक है. रविवार को भी मंदिर के सामने दिनभर भक्तों का ताता लगा रहा. नवरात्रि के पहले दिन भी बड़ी संख्या में लोग दर्शन के लिए मंदिर पहुंचे. जिसके चलते पुलिस बंदोबस्त लगाना पड़ा. मां अंबा के चरणों में बंद व्दार आस्था के फूल चढाकर पूजा-अर्चना शुरू है. श्रध्दालु व्दार पर ही माथा टेककर आशीर्वाद ले रहे है. 

बैरीगेट्स लगाए

मंदिर और पुलिस प्रशासन को भी श्रध्दालूओं की भीड़ की संभावना होने के चलते मेन रोड पर बैरीगेट्स लगाए गए है. दर्शनार्थियों की भीड़ के चलते बैरीगेट्स के पास वाहनों की कतारें लगी है. उसी प्रकार मंदिर से सटकर अंबापेठ निकलने वाला मार्ग भी आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया है. मंदिर पर दर्शन के लिए आने वाली महिलाएं पूजा-अर्चना के साथ अंबा मंदिर के व्दार पर ही ओटी भर रही है. 

विक्रेताओं की उम्मीदें जगी

मंदिर परिसर के व्यवसाय कोरोना लॉकडाउन के चलते विगत् मार्च से ठप है. मंदिर नहीं खुलने से नवरात्रि का सीजन भी हाथ से जाने का मलाल उनमें था. लेकिन मंदिर बंद होने के बावजूद दर्शन के लिए आने वाले श्रध्दालूओं की संख्या देख उनकी उम्मीद जही है. फूल, नारियल, प्रसाद, माता की चुनरी, वस्त्र, ओटी समेत अन्य पूजा सामग्री की बिक्री बढ़ी है. 

कोरोनाकाल में खतरनाक 

कोरोना महामारी के दौर में भीड़ इकठ्ठा होना खतरनाक साबित हो सकता है. इसी के चलते राज्य सरकार ने मंदिरों को खोलने का निर्णय नहीं लिया है. हालांकि मंदिर के सामने होने वाली भीड़ अभी बेकाबू नहीं है. यदि श्रध्दालूओं की संख्या बढ़ गई तो संक्रमण की दृष्टि से भयावह हो सकता है. उल्लेखनीय है कि दर्शन के लिए आने वाले भक्तों में पढे लिखे लोगों की संख्या अधिक है. इसके बावजूद वे सरकार और प्रशासन के आव्हान को नजरअंदाज कर संक्रमण का जोखिम मोल ले रहे है.