RAIN IN NASHIK

    अमरावती. जिले में मानसून पूर्व बारिश का सिलसिला जारी है. रविवार की दोपहर भी अचानक हुई इस बारिश से पुरा शहर सरोबार हुआ. इस बारिश ने सुबह से तपती धूप से काफी राहत दी. लेकिन इसी बारिश ने शहर से सटे कई क्षेत्रों में कहर बरपाया. तेज हवाओं के साथ हुई इस बरसात से शाम करीब 5 बजे परतवाडा मार्ग पर वायगांव से वलगांव के दौरान एक पेड धराशाही हुआ. जिससे कुछ देर के लिए इस मार्ग का यातायात ठप रहा. जिसके बाद लोकनिर्माण विभाग ने पेड को हटाकर यातायात सुचारु की. उसी प्रकार वलगांव में एक विशालकाय पेड लोडिंग वाहन पर गिर पडा. यहां भी कुछ देर के लिए यातायात बाधित हुआ. 

    घरों के छत उड़े, पुलिस थाने की दीवार ढही  

    शनिवार की दोपहर अचानक तूफानी बारिश ने इस तरह कहर मचाया की भातकुली तहसील के दर्जनों गांव को तूफानी बारिश के कहर का सामना करना पड़ा. वाठोड़ा शुक्लेश्वर में सैकड़ों लोगों के घर के छत उड़ गए. इतना ही नहीं तो खोलापुर पुलिस थाने की सुरक्षा दीवार पर पेड़ गिरने से दीवार धराशाई हो गई. तूफानी बारिश के कारण डीपी पर पेड़ गिर गए, कई पोल झुक गए. गजानन खोपे के मकान के टीन उड़ गए. जिससे घर के साहित्य का नुकसान हुआ. 

    बिजली के तार टूटने से बत्ती गुल

    बिजली के तार टूट जाने से कई जगहों पर बिजली आपूर्ति खंडित हो गई. हवा का विकराल रूप थम जाने के बाद स्थिति सामान्य होगी, ऐसा नजर आ रहा था, लेकिन शाम 7 बजे फिर एक बार तूफानी बारिश ने कहर बरपाया. तूफान के साथ बारिश भी जमकर बरसने लगी. भातकुली तहसीलदार निता लबड़े के आदेश के अनुसार पटवारी संजय पवार ने तत्काल आपदाग्रस्त क्षेत्र का पंचनामा कर आर्थिक मदद दिलाने के लिए प्रयास करने का आश्वासन इस समय दिया गया.

    खोलापुर के विशाल पांडे के घर के पास 50 वर्ष पुराना कडू नीम का पेड़ बिजली वाहिनी पर गिरने से बिजली के पोल झुक गए. रसे के घर के पास 70 वर्ष पुराना पेड़ गिर जाने से राष्ट्रीय शेतकी विद्यालय का छत उड़ गया.  खोलापुर से नावेद सड़क पर पेड़ धराशाई होने से मार्ग बंद हो गया.