लॉकडाउन में भी महावितरण ने जारी रखें मरम्मत के कार्य

  • बिजली ग्राहकों को मिली बड़े पैमाने पर राहत

औरंगाबाद. जिले के बिजली ग्राहकों को जरूरी दबाव से और सूचारु बिजली आपूर्ति के लिए महावितरण ने लॉकडाउन में नए उपकेन्द्रों सहित मूलभूत सुविधाओं के काम किए. इसका जिले के लगभग साढ़े पांच हजार ग्राहकों को फायदा होगा. यह जानकारी महावितरण के जनसंपर्क अधिकारी ज्ञानेश्वर आर्दड ने दी.

उन्होंने बताया कि सरकार के दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना में जिले के पैठण तहसील के आडगांव जावले में 33 केवी क्षमता का  नया उपकेन्द्र 15 जुलाई को कार्यान्वित किया गया. इसका परिसर के 15 गांवों को लाभ होगा. इससे पूर्व यह गांव आडूल उपकेन्द्र को जुडा हुआ था. आर्दड ने बताया कि बिजली लाईन की लंबाई अधिक होने से तथा अधिक के लोड के चलते बार-बार बिजली आपूर्ति खंडित होने की समस्या जारी थी. साथ ही 33 केवी जायकवाडी और 33 केवी अमरापूर वाघुंडी इन उपकेन्द्रों में पहले 5 एमवीए क्षमता के पॉवर ट्रान्सफार्मर थे. इस परिसर में बिजली की बढ़ती जरुरत को ध्यान में रखकर दोनों उपकेन्द्र में 5 एमवीए क्षमता के अतिरिक्त पॉवर ट्रान्सफार्मर बिठाए गए है. इसलिए इन ग्राहकों को सूचारु बिजली आपूर्ति होगी. यह दावा पीआरओ आर्दड ने किया.

4300 ग्राहकों को  होगा फायदा

आडगांव, वाघुंडी और जायकवाड़ी इन तीनों उपकेन्द्रों के अंतर्गत घरेलू,व्यावसायिक और औद्योगिक क्लास के 1800 तथा कृषि पंप क्लास के 2500 ग्राहकों को महावितरण के इन नए मूलभूत सुविधाओं का लाभ मिलेगा. साथ ही औरंगाबाद शहर मंडल में वालूज एमआईडीसी के 33 केवी ई सेक्टर उपकेन्द्र में इससे पूर्व 3.15 एमवीएम क्षमता का ट्रान्सफार्मर था. मई माह में इसकी क्षमता बढ़कर 5 एमवीए की गई. जिससे परिसर के करीब 1200 औद्योगिक बिजली ग्राहकों को बिजली आपूर्ति सूचारु होने का दावा पीआरओ ज्ञानेश्वर आर्दड ने किया.