तनाव मुक्त रहकर परीक्षा दें छात्र

  • कुलगुरु डॉ. प्रमोद येवले  ने साधा छात्रों से साधा  संवाद

औरंगाबाद. हर साल की तुलना में इस साल की परीक्षा सभी के लिए कठिनाइयों से  भरी है. कोई भी छात्र परीक्षा से वंचित ना रहे, इस पर विश्वविद्यालय ने विशेष लक्ष्य केन्द्रीत किया है. ऐसे में छात्र तनाव मुक्त माहौल में परीक्षा दे. यह अपील  कुलगुरु डॉ. प्रमोद येवले ने  छात्रों से की.

मार्गदर्शन किया

डॉ. बाबासाहब आंबेडकर मराठवाडा विश्वविद्यालय के कुलगुरु डॉ. प्रमोद येवले ने परीक्षा के बारे में बुधवार की सुबह 11 से 12 बजे के दरमियान ऑनलाइन संवाद साधा. कोविड-19 के बाद शिक्षण, परीक्षा पैटर्न को लेकर छात्रों को मार्गदर्शन किया. इस संवाद में छात्र शिक्षक-अभिभावक शिक्षा प्रेमी मिलाकर कुल 25 हजार लोग शामिल हुए. कुलगुरु डॉ. येवले ने कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, कुलपति और राज्य सरकार ने दिए हुए मार्गदर्शक सूचना के अनुसार परीक्षा पध्दति में अमलीजामा पहनाया जाएगा. कोई भी छात्र परीक्षा से वंचित ना रहें तथा छात्रों को घर बैठे परीक्षा दे, इस दृष्टि से प्रयास किए जा रहे है. 

एक घंटे में 50 मार्क की परीक्षा होगी

बामू विश्वविद्यालय ने परीक्षा मंडल, विद्या परिषद व व्यवस्थापन परिषद की बैठक लेकर अगली दिशा तय की. सभी सदस्यों ने सकारात्मक दृष्टिकोण स्वीकार कर इसे तत्काल मान्यता दी. उसके अनुसार छात्र परीक्षा दे सकेंगे. छात्र ऑनलाइन और ऑफलाइन में से एक मोड स्वीकार कर परीक्षा दे सकेंगे. 9 से 31 अक्टूबर के दरमियान परीक्षा संपन्न होकर दीपावली से पूर्व परिणाम घोषित किए जाएंगे. उसके तत्काल बाद  स्नातक, स्नातकोत्तर पाठयक्रम की प्रवेश परीक्षा अपनायी जाएगी. ऑनलाइन पध्दति से तत्काल क्लासेस शुरु होंगे. विश्वविद्यालय ने अंतिम वर्ष के छात्रों को विविध तांत्रिक कारणों के चलते ऑनलाइन परीक्षा देने में नाकाम रहनेवाले छात्रों को ऑफलाइन परीक्षा का अवसर उपलब्ध कराया है. कुलगुरु ने बताया कि राज्य के सभी विश्वविद्यालयों ने ऑनलाइन परीक्षा लेने को सहमति दर्शायी है. मोबाइल, लैपटॉप, कम्प्यूटर की सहायता से छात्र परीक्षा दे सकेंगे. जिसके पास मोबाइल नहीं हैं, वे छात्र अपने निकट के कॉलेज में जाकर परीक्षा दे सकेंगे. अगर महाविद्यालय दूर हो तो छात्र निकट के एमकेसीएम के प्रशिक्षण केन्द्र में जाकर परीक्षा दे पाएंगे. एक घंटे में 50 मार्क की परीक्षा होगी.

सहयोग करेगा स्टाफ

विश्वविद्यालय के सभी अधिकारी, कर्मचारी, प्राध्यापक और अधिकार मंडल के सदस्य परीक्षा को लेकर सहयोग करने की जानकारी कुलगुरु डॉ. प्रमोद येवले ने दी. पीआरओ संजय शिंदे ने प्रस्तावना की. कुलगुरु के फेसबुक संवाद में 25 हजार से अधिक छात्रों ने हिस्सा लिया.