Bhandara Railway Station, Bhandara Road

भंडारा. सब्जी, अनाज व व्यापारी सामान की शीघ्र एवं सुरक्षित ढुलाई करने की दृष्टि से दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की ओर से छिंदवाड़ा से हावड़ा तक किसान रेल शुरू की योजना है. संभवत: 2 दिसंबर से शुरू होगी. किसान रेल को ज्यादा सुविधाजनक बनाने भारतीय रेलवे के नागपुर विभागीय कार्यालय से वरिष्ठ अधिकारियों की टीम 28 नवंबर को भंडारा पहुंच रही है. टीम 28 नवंबर को दोपहर 12 बजे बीटीबी सब्जी मंडी में सब्जी, अनाज, मेटल व अन्य व्यापारी संगठनों के साथ चर्चा करेगी.

प्रतिदिन चलेगी तो होगा फायदा

किसान रेल 25 दिसंबर से शुरू होनी थी, लेकिन भंडारा रोड में स्टापेज नहीं देने पर कड़ी प्रतिक्रिया के बाद रेलवे ने भंडारा रोड रेलवे स्टेशन में 10 मिनट स्टापेज दिया है. इससे जिले के किसान व व्यापारी खुश है. किसान रेल को सफल बनाने कई अन्य सुविधा उपलब्ध कराने की जरूरत है. इसमें रेल के प्रतिदिन चलाने, स्टापेज का समय, माल लादने एवं उतारने की व्यवस्था व अन्य बातों को लेकर कई सवाल व सुझाव है. इन सवाल व सुझावों को जानकर समाधान निकालना रेल अधिकारियों का दौरे का मसकद होने की जानकारी रेल विभाग के सूत्रों ने दी.

किसान रेल फिलहाल सप्ताह में एक बार चल रही है. जबकि जिले के किसानों की मांग है कि अगर यह सुविधा पूरे सप्ताह में मिलें तो सुविधाजनक होगा. भंडारा से रायपुर एवं बिलासपुर के लिए सप्ताह के सभी दिन माल भेजा एवं लाया जाता है. अगर किसान रेल प्रतिदिन दौड़े तो किसान व व्यापारी व रेलवे विभाग के लिए लाभकारी सिद्ध होगा. किसान रेल में 18 के लगभग डिब्बे होंगे. स्थानीय स्तर पर माल ज्यादा मात्रा में आता है, इस स्थिति में अतिरिक्त माल को भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित करने की मांग हो रही है.

10 मिनट स्टॉपेज नाकाफी

किसान रेलवे में व्यापारी भी अपने सामान की बड़ी खेफ बुक करा सकते हैं, लेकिन प्राथमिक तौर पर किसान रेल को सब्जी व कृषि उत्पाद को ध्यान में रखते हुए चलाया जाएगा. सब्जी को लादने, उतारने व लेकर जाते समय कई बातों को ध्यान रखना पड़ता है. इसके लिए प्रशिक्षित व कुशल कामगारों की जरूरत होगी. हकीक़त में एक ट्रक में सामान चढ़ाने के लिए घंटे भर का समय लगता है. ऐसे में किसान रेल को 10 मिनट का स्टापेज नाकाफी है. इतने कम समय में सामान को चढाना एवं उतारना संभव नहीं होगा. इसलिए स्टापेज 1 घंटा रहे. 

आज होगी बैठक

किसान रेल के संबंध में भंडारा जिले के किसान व मेटल व अन्य व्यापारी संगठन प्रतिनिधियों से मिलने के लिए 28 नवंबर को दोपहर 12 बजे स्थानीय बीटीबी सब्जी मंडी में बैठक का आयोजन किया गया है.