strike

लाखांदूर (सं). पिछले वर्ष के खरिफ एवं इस वर्ष के ग्रीष्मकालीन मौसम में गिने गए धान का सरकारी नियम अनुसार प्रति क्विंटल अनुसार हमाली का मुआवजा नहीं मिलने के कारण केंद्र अंतर्गत कार्यरत हमालों द्वारा 24 अक्टूबर को हडताल किया जाएगा. यह हडताल तहसील के मासल में पंचशील राइस मिल के सामने किया जाएगा ऐसा निवेदन जिला पणन अधिकारी को सौंपा गया.

प्राप्त जानकारी अनुसार मासल के पंचशील राइस मिल सह. संस्था के तहत पिछले वर्ष के खरिफ एवं ग्रीष्मकालीन मौसम में समर्थन मूल्य धान खरीदी केंद्र चलाया गया था.

इस केंद्र के तहत किसानों के धान गिनने के लिए निविदा निकाली गई थी. इसमें लगभग 14 हमालों को नियुक्त किया गया था. इस अनुसार संस्था ने हमालों के साथ समझौता भी किया था. समझौते में तय किया गया था कि प्रति क्विंटल 4 रु. दर से हमालों को हमाली दी जाएगी. इस इस अनुसार यहां के केंद्र के तहत हमालों द्वारा हजारों क्विंटल धान गिने भी गए थे.

हमालों ने दोनों ही मौसम में मिलाकर कुल 25 हजार क्विंटल धान गिनने की जानकारी संस्था द्वारा दी गई. किंतु 25 हजार क्विंटल से ज्यादा धान गिनने का हमालों द्वारा बताया जाकर हमालों ने खरिफ एवं ग्रीष्मकालीन मौसम के खरीदी हुए धान की कुछ महिने के तारिखवार जानकारी मंगवाई. किंतु संस्था ने यह जानकारी नहीं देने से आरोप लगाया जा रहा है कि संस्था द्वारा हमाली छिनने का प्रयास हो रहा है. इस मामले में सरकार ने ध्यान देने की आवश्यकता है.

इस मामले का पर्दाफाश होने के लिए हमालों ने पंचशील राइस मिल के सामने 24 अक्टूबर को हडताल करने का निवेदन सौंपा है. शिष्टमंडल में एकनाथ सूकरे, केशव माटे, गिरीधर चौधरी, निलेश देशमुख, दिपक शहारे, राजेंद्र शहारे, शामराव सोनटक्के के अलावा अन्य 7 हमालों का समावेश है.