बच्चों को निमोनिया से बचाने के लिए नियमित टीकाकरण में पीसीवी वैक्सीन को करे शामिल

    भंडारा . बच्चों को विभिन्न बीमारियों से बचाने के लिए नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जिले में विभिन्न टीके लगाए जाते है. इसमें अब नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में एक नया न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन (पीसीवी) शामिल है. यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग ने दी है. 

    पीसीवी टीकाकरण बच्चों में न्यूमोकोकल रोग व इससे होने वाली मौतों को रोक सकता है. 2 वर्ष तक के बच्चों में गंभीर न्यूमोकोकल रोग विकसित होने का जोखिम देखा जाता है. पीसीवी टीकाकरण बच्चों को इस गंभीर न्यूमोकोकल बीमारी से बचाएगा और साथ ही समाज के अन्य वर्गों में इस बीमारी के जोखिम को कम करेगा. शिशुओं को जन्म के बाद छठे, 14 वें सप्ताह एवं नौवें महीने में पीसीवी वैक्सीन की तीन खुराकें दी जाएंगी. 

    स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया बैक्टीरिया के कारण होने वाला निमोनिया 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में प्रमुख कारण है. न्यूमोकोकल निमोनिया श्वसन तंत्र का संक्रमण है. इससे फेफड़े फूल सकते हैं और पानी भर सकते हैं. इससे सांस लेने में दिक्कत होती है. इस बीमारी के मुख्य लक्षण खांसी, सांस लेने में तकलीफ आदि है.

    न्यूमोकोकल कान्जुगेट वैक्सीन (पीसीवी) वैक्सीन के कार्यान्वयन के लिए, जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, उप-केंद्रों, ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए तहसील वार प्रशिक्षण पूरा कर लिया गया है. पात्र लाभार्थियों को नियमित टीकाकरण सत्र में पीसीवी का टीका लगाया जाएगा. यह बात जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. प्रशांत उइके ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से इस बात की जानकारी दी है.