Praful Patel

  • जिले के किसानों के लिए बड़ी खबर

भंडारा. राज्य में सर्वाधिक धान का क्षेत्र भंडारा एवं गोंदिया जिला है. जिले के धान उत्पादक किसानों से 2,500 रुपए भाव देने का वादा किया था. कोरोना त्रासदी में किसानों के मन में आशंका थी की कहीं इस बार भी वादा खिलाफी न हो जाए. लेकिन धान के लिए समर्थन मूल्य एवं बोनस मिलाकर कुल 2,568 रु. प्रति क्विंटल भाव मिलने की खुशखबरी पूर्व केंद्रीय मंत्री तथा राकां नेता प्रफुल पटेल ने दी. उन्होने बताया कि इस संबंध में उनकी मुख्यमंत्री एवं संबंधितों के साथ चर्चा हुई है. मंत्रिमंडल बैठक में इस निर्णय पर मुहर लगेगी. प्रफुल पटेल भंडारा जिले के दौरे पर पहुंचे थे. अधिकारियों के साथ चर्चा के पूर्व वे पत्रपरिषद को संबोधित कर रहे थे.

उनके साथ में पूर्व शिक्षा मंत्री नाना पंचबुद्धे, पूर्व सांसद मधुकर कुकडे, पूर्व हथकरघा महामंडल अध्यक्ष धनंजय दलाल, पूर्व विधायक राजू जैन आदि उपस्थित थे.

बोनस की राशि 1400 करोड़ रु.

प्रफुल पटेल ने बताया कि धान के बोनस की राशि यह 1400 करोड़ रु. के आसपास है. चूंकि राज्य में धान की सर्वाधिक पैदावार भंडारा और गोंदिया जिले में  होती है. अनुमान है की 75 प्रतिशत लाभ इन दो जिले के किसानों को मिलेगा. राशि सीधे किसानों के खातें में जमा होगी.

देश में सर्वाधिक भाव

देश में केवल महाराष्ट्र एवं छत्तीसगढ़ में ही 2500 रु. का भाव मिल रहा है. भाजपा शासित राज्य में केंद्र द्वारा तय मूल्य के अनुसार 1,568 रु. ही  भाव मिल रहे है. सर्वाधिक भाव मिलने की वजह से ही किसान अपना माल सरकारी खरीदी केंद्र में बेच रहे है. इस अनुभव के बाद में नई धान खरीदी के लिए गोडाऊन की संख्या बढ़ाने, खरीदी केंद्र बढ़ाने, बारदाना स्टाक करने आदि व्यवस्था करने को कहा गया है.

रेती तस्करी पुराने राजनेताओं की देन

जिले में रेत तस्करी के मुद्दे पर बोलते हुए प्रफुल पटेल ने कहा कि रेती तस्करी में इसके पूर्व की सरकार के नेताओं की देन है. जिले में रेती तस्करी यह संगठित रूप से चल रही है. जिले में एसपी जाधव को कार्यभार संभालने के बाद उन्हे रेती तस्करी समाप्त करने के संबंध में निर्देश दिये थे.

महाविकास आघाडी को डर नहीं

राजनीतिक मुद्दे पर बोलते हुए प्रफुल पटेल ने कहा कि एनडीए के साथी एक-एक कर छोड़ कर जा रहे है. बिहार चुनाव में क्या होगा इस परिणाम महाराष्ट्र की राजनीति पर नहीं पडेगा. यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी.

कम हुआ कोरोना संकट

प्रफुल पटेल ने भंडारा जिले में कोरोना संक्रमण कम होने पर संतोष जताया. उन्होने बताया कि स्वास्थ्य मंत्री, गृहमंत्री के साथ भंडारा जिले में संबंधित अधिकारियों की बैठक के बाद दवा, स्वास्थ्य सेवा, आक्सीजन टैंक की स्थिति में सुधार आने की बात बताई.