SugarCanes
Representational Pic

साकोली. भंडारा जिले में किसानों ने गन्ने की बुआई की, हालांकि गन्ना उत्पादकों को समय पर गन्ने के चुकारे नहीं मिलने से उन पर भूखमरी का संकट आया है. कोरोना संकट के कारण किसान परेशान है. खरीफ सीजन के लिए उनके पास पैसे नहीं है. इस कारण उनकों गन्ने के चुकारे शीघ्रता से करने की मांग किसान संकटमोचन समिति की ओर से जनप्रतिनिधियों को सौंपे निवेदन से की गई है.

पिछले 5 वर्षों की तुलना में इस वर्ष भंडारा, गोंदिया जिले के किसानों ने कुछ प्रमाण में गन्नें की बुआई की है. जिसके बाद बिक्री किए जाने के बावजूद भी किसानों को अब तक चुकारे वितरित नहीं किए गए है.

गन्ना उत्पादक किसान संकट में आए है. सितंबर से मार्च तक के गन्ने के बिल अभी भी वैनगंगा कारखाने की ओर से नहीं मिले हैं. जिससे किसानों के सामने सवाल निर्माण हो गया है कि रोपाई कैसे करें. इसके चलते गन्ने के चुकारे शीघ्रता से किए जाए. अन्यथा आंदोलन की चेतावनी संकट मोचन समिति के अध्यक्ष राम महाजन, कोषाध्यक्ष डा. अशोक कापगते ने विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले को सौंपे निवेदन से की है.