Quarantine center in hostel, where to read students, demand for handing over to students before August
File Photo

भंडारा. राज्य माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कक्षा 12वीं एवं इसके बाद 10वीं का परिणाम घोषित किया. राज्य में एक ओर कोरोना सदृश्य स्थिति का संकट है तो दूसरी ओर कक्षा 12वीं में उत्तीर्ण हुए छात्रों को अपने भविष्य के करिअर की चिंता सता रही है.

नहीं जा रहे बाहर
जिले में लॉकडाउन होने के कारण बड़े शहरों की ओर जाने का आकर्षण फिलहाल कम है. ऐसी स्थिति में मेधावी छात्र क्या करें इस दुविधा में फंसे हुए हैं. कक्षा 10 वी एवं 12 वी का परिणाम घोषित हुआ. जिले का परिणाम संतोषजनक रहा है. हालांकि 22 मार्च से शुरू लाकडाउन आज भी कायम है. इसी वजह से स्कूल, महाविद्यालयों में परीक्षाएं नहीं हो पाई. 

सरकार ने दिए आदेश
इस पर सरकार ने आदेश दिए कि पूर्व परीक्षा के आधार पर छात्रों को सीधा उत्तीर्ण घोषित किया जाएगा. इसके बाद स्कूल प्रशासन को कार्रवाई करनी पड़ी. 16 जुलाई को 12वीं का परिणाम घोषित होने पर छात्र एवं अभिभावकों द्वारा आनंद व्यक्त किया गया, लेकिन राज्य में कोरोना सदृश्य स्थिति दिन ब दिन बढ़ने के कारण स्कूल महाविद्यालय के मेधावी छात्रों के प्रवेश के संदर्भ में शैक्षणिक नीति आंकने के लिए विलंब हो रहा है. 

लगा हुआ है प्रतिबंध
सरकार ने सभी शैक्षिक संस्थाओं को अपना व्यवहार पूर्ववत करने पर प्रतिबंध लगाया है. इसलिए छात्रों को फिलहाल घर में ही बैठ कर पढ़ाई करनी पड़ रही है. इस कारण छात्रों का भविष्य खतरे में बना हुआ है. अभियांत्रिकी वैद्यकीय प्रवेश पूर्व परीक्षा देने से प्रवेश कैसे करना है, प्रवेश होने पर क्लास कैसे करेंगे इसकी चिंता प्रत्येक अभिभावक, छात्र एवं शिक्षकों को लगी है.