ग्रामीणों ने किया पुलिस पर पथराव

बुलढाना. जिले के डोंगर खंडाला गांव में शिवभक्तों द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज का अश्वारूढ़ पुतले की स्थापना कर खुशी मनाई गई. रातभर वहां पर कार्यक्रम हुआ. लेकिन सुबह पुलिस प्रशासन वहां पहुंची.इसके

बुलढाना. जिले के डोंगर खंडाला गांव में शिवभक्तों द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज का अश्वारूढ़ पुतले की स्थापना कर खुशी मनाई गई. रातभर वहां पर कार्यक्रम हुआ. लेकिन सुबह पुलिस प्रशासन वहां पहुंची.इसके बाद गांव का माहौल तनावपूर्ण हो गया. पुलिस ने अनुमति न होने का हवाला देकर पुतला निकालने को कहा, मगर गांव वालों ने इस बात का विरोध किया. जिसके बाद पुलिस ने क्रेन बुलवाकर पुतले को वहां से हटाने की कोशिश की. इसी वक्त गुस्साए ग्रामीणों ने अचानक पुलिस और वहां मौजूद सरकारी कर्मचारियों पर पथराव कर दिया. अपने आप को बचाने के लिए ट्रैक्टर में सवार लोगों में हड़बडी में पुतले से नियंत्रण छूट गया जिस कारण वह ट्रैक्टर से नीचे गिर कर खंडित हो गया. ये सब देख लोगों का गुस्सा और बढ़ गया, और हालात बेकाबू हो गये.

तहसीलदार व पुलिसकर्मी घायल
इस पथराव में तहसीलदार सुरेश बगले समेत कई कर्मचारी और अधिकारी घायल हुए हैं, जिनका उपचार अस्पताल में चल रहा है. गांव वालों का गुस्सा पार होते देख पुलिस ने बल का प्रयोग कर भीड़ को तितर-बितर करने की कोशिश की. इस बीच गुस्साए लोगों ने कई वाहनों की तोड़फोड़ की. सरकारी बस को भी आग के हवाले कर दिया. गांव की महिलाओं ने आरोप लगाया है कि, पुलिस ने महिलाओं के ऊपर भी लाठियां चलाई है, घरों में घुसकर मार है, जिसमें कई महिला पुरुष और बीमार व बच्चे घायल हुए हैं. इस घटना के मौके पर पहुंचे बुलढाना एसपी ने कड़ी जांच के आदेश दिए हैं.

प्रतिमा लगाने दी थी इजाजत : सपकाल
विधायक हर्षवर्धन सपकाल, शिवसेना नेता संजय गायकवाड, बुलढाना अर्बन के प्रमुख भाईजी तथा जिला पुलिस अधीक्षक डा. भुजबल की उपस्थिति में ग्रामवासियों के बीच ये सभा हुई थी जिसमें पुतला स्थापित करने व लगने वाला संपूर्ण खर्च स्वतः करने की घोषणा बुलढाना अर्बन के प्रमुख भाईजी ने की थी. निरपराध लोगों पर गुन्हा दाखिल न करने की अपील की. पुलिस ने शांति बनाएं रखने की अपील की. सभा के बाद गांव में शांति है.