Sensex rises 100 points in early trade, IT shares shine

मुंबई. उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में सोमवार को बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी दोनों गिरावट के साथ बंद हुए। देश और दुनिया में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों और आर्थिक पुनरूद्धार को लेकर उम्मीद कमजोर पड़ने के बीच वित्तीय तथा आईटी कंपनियों के शेयरों में बिकवाली का असर बाजार पर पड़ा। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स कारोबार के दौरान एक समय 509 अंक तक नीचे चला गया था। अंत में 209.75 अंक यानी 0.60 प्रतिशत की गिरावट के साथ 34,961.52 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 70.60 अंक यानी 0.68 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,312.40 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के शेयरों में एक्सिस बैंक को सर्वाधिक नुकसान हुआ। इसमें करीब 5 प्रतिशत की गिरावट रही। इसके अलावा टेक महिंद्रा, भारतीय स्टेट बैंक, एलएंडटी, इंडसइंड बैंक, इन्फोसिस और एनटीपीसी में मुख्य रूप से गिरावट आयी। दूसरी तरफ एचडीएफसी बैंक, एचयूएल, कोटक बैंक तथा भारती एयरटेल लाभ में रहीं। आनंद राठी के इक्विटी शोध (फंडामेंटल) प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा, ‘‘ बाजार गिरावट के साथ खुले। इस पर एशियाई बाजारों का असर पड़ा।

वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की संख्या 5,00,000 को पार कर गई। निवेशक इस बात को लेकर चिंतित हैं कि मामले बढ़ने पर अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने के काम में रुकावट आ सकती है।” बाजार विशेषज्ञों के अनुसार कारोबारियों के अनुसार इसके अलावा भारत-चीन सीमा मसला और अमेरिका-चीन के बीच व्यापार तनाव जैसे भू-राजनीति संकट से भी निवेशक थोड़े चिंतित हैं। एशिया के अन्य बाजारों में चीन का शंघाई, हांगकांग, जापान का तोक्यो ओर दक्षिण कोरिया का सोल नुकसान में रहे।

यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरूआती कारोबार में हल्की तेजी देखी गयी। इस बीच, वैश्विक स्तर पर कोरोना संक्रमित मामलों की संख्या एक करोड़ के आंकड़े को पार कर गयी है जबकि 5 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार कोरोना वायरस संक्रमित मामलों की संख्या बढ़कर 5.48 लाख पहुंच गयी जबकि 16,475 लोगों की मौत हुई है। उधर, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट कूड का वायदा भाव 0.34 प्रतिशत घटकर 40.79 डॉलर प्रति बैरल रहा। वहीं अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 7 पैसे बढ़त के साथ 75.58 पर बंद हुआ। (एजेंसी)