रोशनी, किरण, लीना और नीलिमा सबसे अमीर

  • कोटक वैल्थ-हुरुन ने जारी की 100 सबसे धनी महिलाओं की सूची
  • उद्योग क्षेत्र में सफलता प्राप्त करती महिलाएं

मुंबई. प्रमुख आईटी कंपनी एचसीएल टेक्नोलॉजी लि. (HCL Technologies Ltd) की अध्यक्षा रोशनी नाडार, बायोटेक कंपनी बायोकॉन लिमिटेड (Biocon Limited) की अध्यक्षा किरण मजमूदार शॉ, फार्मा कंपनी यूएसवी लिमिटेड (USV Limited) की अध्यक्षा लीना गांधी तिवारी और फार्मा कंपनी डिवीज लैबोरटरीज लि. (Divis Laboratories Ltd.) की निदेशक नीलिमा मोतापर्ती देश की सबसे अमीर महिलाएं बन गई हैं. जिनकी कुल संपत्ति 1,31,410 करोड़ रुपए है. कोटक वैल्थ मैनेजमेंट (Kotak Wealth Management) और हुरुन इंडिया (Hurun India) ने गुरुवार को भारत की सबसे अमीर महिलाओं की सूची जारी की. जिसमें देश की सबसे अमीर 100 कारोबारी महिलाओं को शामिल किया गया है. जिनकी कुल संपत्ति 2.72 लाख करोड़ रुपए है. इस सूची में 54,850 करोड़ रुपए की संपत्ति के साथ एचसीएल की रोशनी नाडार मल्होत्रा टॉप पर हैं.

मुंबई में 32 महिलाएं सबसे ज़्यादा अमीर

2020 संस्करण की रिपोर्ट खास तौर पर उन 100 महिलाओं पर केन्द्रित है, जो उद्यमी हैं, पेशेवर या अपने पारिवारिक बिजनेस में सक्रिय भूमिका निभा रही हैं. इससे जाहिर होता है कि पुरूष ही नहीं बल्कि महिलाएं भी उद्योग-व्यापार के क्षेत्र में सफलता प्राप्त करते हुए अपना लोहा मनवा रही हैं. इस सूची में शामिल महिलाओं की औसत सम्पत्ति 2725 करोड़ रुपए के लगभग है. इस रैंकिंग के लिए 100 करोड़ रुपए की सम्पत्ति को न्यूनतम पैमाना रखा गया है. देश की आर्थिक राजधानी मुंबई से सबसे ज़्यादा महिलाएं (32) इस सूची में हैं. इसके बाद नई दिल्ली (20) और हैदराबाद (10) का नंबर है. इस सूची में 8 महिलाओं की संपत्ति 7,000 करोड़ रुपए से अधिक हैं. जबकि 38 महिलाओं की सम्पत्ति 1,000 करोड़ रुपए या उससे अधिक है.

5 ट्रिलियन डॉलर इकनॉमी बनाने में होगी अहम भूमिका

कोटक महिन्द्रा बैंक की सीईओ (वैल्थ मैनेजमेंट) ओइशर्या दास ने कहा कि बीते दो दशकों में एक महत्वपूर्ण बदलाव यह हुआ है कि महिलाएं सम्पत्ति निर्माता के रूप में बड़े पैमाने पर आगे आई हैं. कोटक वैल्थ हुरुन-लीडिंग वैल्दी वुमन 2020 रिपोर्ट एक दिलचस्प और प्रेरक रुझान का खुलासा करती है. अब पहले से ज़्यादा तादाद में महिलाएं आगे आ कर सफलता की कहानियां लिख रही हैं, ये कामयाब महिलाएं पूरे भारत के विभिन्न शहरों में और विविध उद्योगों में सक्रिय हैं. भारत सरकार ने 2025 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है और इस लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महिलाएं सम्पत्ति निर्माता के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी.

उद्यमशीलता के लिए प्रेरित होती महिलाएं

हुरुन इंडिया के एमडी और मुख्य विश्लेषक अनस रहमान ने कहा कि सूची में भारत की सबसे सफल महिला लीडर शामिल हैं. उनकी कहानियां पढ़ी और साझी की जानी चाहिए. वह क्या है जो उन्हें कामयाब बनाता है. वे ऐसा कैसे कर पाती हैं. मुझे उम्मीद है कि यह सूची और अधिक महिलाओं को उद्यमी बनने, कारोबार चलाने और कंपनियों की अगुआई करने के लिए प्रेरित करेगी. उच्च शिक्षा के प्रति बढ़ती रूचि भी महिलाओं में उद्यमशीलता को बढ़ावा दे रही हैं. 

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु:

  •  किरण मजूमदार-शॉ, बायोकॉन इस सूची में स्वयं अपने प्रयासों से अमीर बनने वाली सबसे धनी महिला हैं.
  •  इस सूची में 8 महिलाओं की संपत्ति 7,000 करोड़ रुपए से अधिक हैं
  •  38 महिलाओं की सम्पत्ति 1,000 करोड़ रुपए या उससे अधिक है.
  • इस सूची की 19 महिलाओं के नाम हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2020 में भी शामिल हैं तथा 6 महिलाओं ने हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट 2020 में भी जगह बनाई है.
  • इस सूची में 8 महिलाएं पद्म पुरस्कारों से सम्मानित हैं.
  • इस सूची में 31 महिलाएं अपनी खुद की कोशिशों से अमीर बनी हैं – इनमें से 6 महिलाएं प्रोफेशनल मैनेजर और 25 उद्यमी हैं.
  • 6 महिला उद्यमी ऐसी भी हैं जो स्टार्टअप ईकोसिस्टम से नाता रखती हैं और इनमें से दो महिलाओं ने तो यूनिकॉर्न कंपनियां खड़ी की हैं. उनके नाम हैं. नायका की फाल्गुनी नायर और बायजूज़ के थिंक एंड लर्न की दिव्या गोकुलनाथ.
  • 19 महिलाएं 40 वर्ष से कम आयु की हैं.
  • कनिका टेकरीवाल (जैटसैटगो), अंजना रेड्डी (यूनिवर्सल स्पोर्ट्सबिज) और विधि शांघवी (सन फार्मा) इस सूची में सबसे युवा महिलाएं हैं.
  • फार्मास्युटिकल्स और टेक्सटाइल्स, अपैरल और ऐक्सैसरीज़ का 25% आंकड़े के साथ इस सूची में प्रभुत्व है. इनके बाद हेल्थकेयर व फाइनेंशियल सर्विसिस का नंबर आता है जो क्रमशः 9% और 8% है.
  • सूची में 15% महिलाएं ऐसी हैं, जो महानगरों से नहीं हैं.
  • लोकोपकार के लिए ज़्यादातर महिलाएं शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र को पसंद करती हैं. इनमें से 4 महिलाओं का शुमार हुरुन इंडिया फिलानथ्रोपी लिस्ट 2020 में भी हुआ है.