Birthday Special: वहीदा रहमान होंगी ‘किशोर कुमार सम्मान’ से सम्मानित

मुंबई: 3 फरवरी 1938 को तमिलनाडु में एक बच्ची का जन्म हुआ जो आज बॉलीवुड की एक खूबसूरत अभिनेत्री वहीदा रहमान के नाम से जानी जाती हैं। आज वह 82 वर्ष की हो गई हैं। बचपन से ही वहीदा संगीत और नृत्य की बहुत

मुंबई: 3 फरवरी 1938 को तमिलनाडु में एक बच्ची का जन्म हुआ जो आज बॉलीवुड की एक खूबसूरत अभिनेत्री वहीदा रहमान के नाम से जानी जाती हैं। आज वह 82 वर्ष की हो गई हैं। बचपन से ही वहीदा संगीत और नृत्य की बहुत शौकीन थी। बचपन में वह डॉक्टर बनना चाहती थी लेकिन आर्थिक तंगी के चलते उन्हें फिल्मों में काम करना पड़ा। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के अलावा वहीदा रहमान तमिल, तेलुगु, बंगाली और मलयालम में भी फिल्में कर चुकी हैं।  

वहीदा ने 1950, 1960 और 1970 के दशक की शुरुआत तक फिल्मों की विभिन्न शैलियों में अपना योगदान दिया हैं। साथ ही उन्होंने अपने पूरे करियर में फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए दो फिल्मफेयर पुरस्कार भी जीते हैं। जल्द ही वह एक और पुरस्कार से सम्मानित होने वाली हैं। 

मध्यप्रदेश सरकार द्वारा वहीदा रहमान को कल ‘किशोर कुमार सम्मान-2018’ से सम्मानित किया जाने वाला हैं। इस सम्मान को प्राप्त करने वाले व्यक्ति को सरकार में दो लाख रुपये, शॉल-श्रीफल और प्रशस्ति पट्टिका प्रदान करती है। मध्य प्रदेश के संस्कृति मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने कहा कि मुंबई स्थित उनके बांद्रा निवास पर 4 फरवरी को यह पुरस्कार रहमान को दिया जाएगा। इंडियन फिल्म इंडस्ट्री की अत्यधिक सफल अभिनेत्रियों में से वहीदा रहमान एक हैं जो आज 82 वर्ष की हो गई हैं। 

वहीदा रहमान ने अपने करियर में कई फिल्में की हैं। साथ ही उनकी ज्यादातर फिल्मे बॉक्स ऑफिस हिट भी रह चुकी हैं और लोग आज भी उनके दीवाने हैं। वहीदा रहमान ने सी आई डी (1956), प्यासा (1957), 12 ओ’क्लॉक (1958), कागज़ के फूल (1959), साहिब बीबी और ग़ुलाम और चौदहवीं का चाँद (1961), सोलवाँ साल (1958), बात एक रात की (1962), कोहरा (1964), बीस साल बाद (1962), गाइड (1965), मुझे जीने दो (1963), तीसरी कसम (1966), नील कमल (1968) , ख़ामोशी (1969) जैसी फिल्मों में अपनी अदाकारी से जादू बिखेरा हैं।