आंगणवाडी सेविका व परिवार पर जानलेवा हमला

  • हमले के बावजुद शंकरपुर पुलिस ने किया एनसी मैटर दर्ज
  • पुलिस की आंगणवाडी सेविका व बेटे के साथ धक्काबुक्की

शंकरपुर. कोवीड के संकट में सर्वे का कार्य आंगणवाडी सेविका तथा आशा वर्करों पर हमले की घटनाए दिनोंदिन बढती जा रही है. चिमुर तहसील के डोमा निवासी आंगणवाडी सेविका तथा उनके परिवार पर शुक्रवार की शाम गांव के 4 युवकों ने लाठीयों के साथ जानलेवा हमला किया. इस संदर्भ में शंकरपुर पुलिस ने शिकायत दर्ज करने के बजाय आंगणवाडी सेविका लता मुंडले व उनके बेटे के साथ धक्काबुक्की की व एनसी मैटर दर्ज कर हमलावर युवकों को बचाने का प्रयास पुलिस ने करने का आरोप आंगणवाडी सेविका लता मुंडले ने लगाया है. इस संदर्भ में संबंधित पुलिस कर्मीयो पर उचीत कार्रवाई कर न्याय की मांग की है.

चिमुर तहसील के डोमा निवासी लता किसनलाल मुंडले आंगणवाडी सेविका के तौर पर कार्यरत है. 25 सितम्बर की शाम डोमा गांव के राकेश लांजेवार, अविनाश नन्नावरे, वैभव लांजेवार, अक्षय गजभे ने लाठीयों के साथ घर आकर अश्लिल गालीगलौच कर धमकी देते हुए पती किसनलाल मुंडले, बेटे भुषण व स्वयं को धक्काबुक्की कर मारपीट किए जाने का आरोप पिडीत लता मुंडले ने किया है. मारपीट के दौरान किसनलाल के हाथ व पैर को चोट आयी है. दौरान विवादमुक्त समिति के अध्यक्ष को बुलाने पर उन्हे भी धक्काबुक्की की गयी.

घटना की शिकात दुसरे दिन शंकरपुर पुलिस चौकी में करने पर चौकी में खोब्रागडे नामक पुलिस कर्मचारी ने सही घटना लिखने के बजाय उलटा मुंडले परिवार के खिलाफ शिकायत लिखी गयी. मुंडले परिवार ने मेडीकल कराने की बात कहने पर पुलिस ने सरकारी अस्पताल बंद होने की जानकारी दी. निजि अस्पताल में मेडीकल कराने की बात करने पर पुलिस कर्मी खोब्रागडे ने बेटे भुषण का गला दबाया तथा महिला के साथ धक्काबुक्की करने का आरोप आंगणवाडी सेविका ने लगाया है. इसका विडीयो वायरल होने की जानकारी उन्होने दी. रक्षक ही भक्षक हो जाने पर न्याय किसके पास मांगे ऐसा सवाल आंगणवाडी सेविका ने उठाया है. इस संदर्भ में नवनियुक्त पुलिस अधिक्षक समक्ष इस मामले की शिकायत दर्ज करने की बात आंगणवाडी सेविका लता मुंडले ने की है.

कोरेाना संकट में आंगणवाडी सेविका कोरेाना योध्दा के तौर पर कार्य कर रही है. गांव में कोरोना के संदर्भ में लोगों में जनजागरण करनेवाले कोरोना योध्दाओं पर हो रहे हमले तथा महिला के साथ असभ्य बर्ताव करनेवाले युवकों पर तथा शंकरपुर पुलिस कर्मीयों पर उचीत कार्रवाई करने की मांग आंगणवाडी सेविका लता मुंडले ने की है.