बाघ के हमले में फिर मौत, जंगल से सटे गांवों में दहशत

  • नहीं रुक रही घटनाएं

गोंडपिपरी. तोहोगांव जगंल में बाघ के हमले में एक की मौत हो गई. जिले में बाघ के हमलों की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं. इसके कारण जंगल से सटे गांवों में दहशत का माहौल है. तोहोगांव निवासी दिनकर ठेंगरे शनिवार को जंगल में गया था. किंतु देर रात तक उसके नहीं लौटने पर रविवार को उसकी तलाश करने पर वन विकास महामंडल के कक्ष क्र. 26 में उसका शव मिला. घटनास्थल पर बाघ के हमले के निशा दिखाई दिए.

खेतों में जाने से डर रहे लोग
मानसून शुरू होने के बाद खेतों में काम बढ़ गए हैं. किसानों ने बुआई कार्य शुरू कर दिया है. किंतु आए दिन हो रहे बाघ-तेंदुए के हमलों ने उन्हें परेशानी में डाल दिया है. परिसर में इसके पूर्व भी कई बार बाघ देखा गया है. गोंडपिपरी के एक किसान ने अपने खेत में करंट प्रवाहित कर रखा था और उसके संपर्क में आ जाने से बाघ की मृत्यु हो गई थी. किसान ने उसे खेत में गाड़ दिया था. जिसे बाद में वन विभाग की टीम ने खोदकर निकाला था. उसी प्रकार एक कुएं के पास एक बाघ और सुअर मरा हुआ मिला था.

गोंडपिपरी तहसील के एक छोर पर बसा तोहोगांव जंगलों से घिरा हुआ है. इसलिए किसान, वन मजदूरों को जंगल से आना-जाना पड़ता है. जंगल का अधिकांश हिस्सा मध्य चांदा वन विकास महामंडल बल्लारशाह विभागीय कार्यालय अंतर्गत आता है.

बांस लाने गया जंगल
दिनकर खेती के काम के लिए बांस लाने के लिए शनिवार को जंगल में गया था. किंतु देर रात तक वह नहीं लौटा. इसलिए परिजनों ने उनकी तलाश की. किंतु जल्द रात हो जाने की वजह से उन्हें लौटना पड़ा. आज पुन: जंगल में उसकी तलाश के लिए गए लोगों को दिनकर का शव वन प्रकल्प कार्यालय तोहोगांव उपक्षेत्र के कक्ष क्र. 26 में दिखाई दिया. रविवार की सुबह वन विकास महामंडल विभाग व पुलिस की टीम मौके पर पहुंची. वन विकास महमांडल विभाग के व्यवस्थापक रेड्डी, सहायक व्यवस्थापक एम.एस. चौधरी, मेश्राम, वन परिक्षेत्र अधिकारी अनिकेत मोटे, वन विभाग के वन परिक्षेत्र अधिकारी गलग, लंगडे, कोठारी के थानेदार जोशी, स्वास्थ्य विभाग के डा. आसुटकर भी घटनास्थल पर पहुंचे.

बछड़ा भी मारा गया
राजुरा (सं). राजुरा-विहीरगांव मार्ग पर स्थित सातरी गांव की ओर जाने वाले मार्ग पर बाघ ने एक बछड़े को मार डाला. घटना के बाद से चुनाला, सातरी के ग्रामीणों में दहशत का माहौल है. चुनाला परिसर में बाघ ने इसके पूर्व एक व्यक्ति पर हमला किया था, जिसकी मृत्यु हो गई थी. नदी किनारे बाघ ने कई जानवरों का शिकार किया है. चुनाला, सातरी परिसर में सुरेश पिंपलशेंडे के गाय के बछड़े पर बाघ ने शनिवार की रात हमला कर मार दिया.