पर्यावरण: तेलंगाना व पुणे से आते हैं पौधे, सबसे महंगा है साइकस पाम, बागवानी के लिए नर्सरियों में जुटी रही भीड़,

    चंद्रपुर. जिले में जैसे ही मानसून का आगाज हुआ, जगह-जगह रंगबिरंगे मनमोहक फूलों और फलों वाले पौधे बिकने के लिए तैयार हो गए हैं. इनमें साइकस पाम नामक पौधा सबसे महंगा बिकता है. शहर में पड़ोसी राज्य तेलंगाना और पुणे की नर्सरियों से पौधे मंगवाए जाते हैं. मूल मार्ग पर वन विभाग कार्यालय के सामने, नागपुर रोड पर कई नर्सरियां नजर आ रही हैं.

    पालनगर कालोनी की नर्सरी में भी पौधों की बहार है. वन विभाग की नर्सरियों में भी फूलों और फलों के पौधे बिक्री के लिए रखे गए हैं. हालांकि पौधारोपण मुहिम के तहत लोगों ने काफी बड़े पैमाने पर पौधारोपण किया, परंतु घरों की शोभ बढ़ानेवाले और बागवानी के सौंदर्य को चार चांद लगाने वाले पौधों के प्रति लोगों का मोह समाप्त नहीं हुआ है.

    गुलाब, मेहंदी, रातरानी, कन्हेर पहली पसंद

    इस वर्ष मानसून पूरे शबाब पर होने से घरों में बागवानी का शौक रखने वाले लोग अब नर्सरियों में पौधों की खरीदी कर रहे हैं. इन पौधों को गमलों के साथ हाथ रिक्शा, साइकिल रिक्शे पर डालकर दूकानदारों द्वारा कालोनियों में घूम-घूमकर बेचा जा रहा है. गुलाब, मेहंदी, रातरानी, क्रिसमस ट्री, विद्या, कन्हेर, गुलमोहर आदि पौधों की अच्छी डिमांड है. घर के बाग की शोभा बढ़ाने वाले पौधों के बारे में तो बागवान को ही पता होता है.

    यहां पालनगर के नर्सरी संचालक ने जब पौधों के बारे में जानकारी देनी शुरू की, तो पौधों के नाम और दाम दोनों सुनकर हैरानी हो गई. यहां 10 रुपए से लेकर 8,000 रुपए तक कीमत के पौधे बेचे जा रहे हैं. पौधों के शौकीन इस तरह के विभिन्न किस्म और जाति के पौधों को खरीदते भी है. जहां एक ओर मेहंदी का पौधा 10 से 20 रुपए में बिकता है, वहीं पाम प्रजाति के साइकस पाम का पौधा 6 से 8 हजार रुपए में बेचा जाता है.

    कई तरह की वेराइटियां

    मूल मार्ग पर मच्छीनाला समीप पालनगर के पास पौधे बेचने वाले पाल ने बताया कि यहां कई तरह के पौधे बेचे जाते हैं. आमतौर पर एक पौधा 50 रुपए से 200 रुपए में बिकता है. यह पौधे आंध्रप्रदेश और पुणे से लाए जाते हैं. जिन पौधों की मांग अधिक होती है उनमें क्रिसमस ट्री, रायल पाल्म, इरिका पाल्म, केविल पाम, ओनीमीश पाम, पिचुडिया पाम, काटन, सोनप इंडिया, डेसीना, कालोरमा, विद्या, सिल्वर, फाइकस, मिनी एक्यूरा, टाइगर एक्यूरा, सोनोवूश, आइडेनिया, चायना एक्यूरा, कन्हेर, ओरीजोरी, रातरानी, मधुमालती, परिजात, कैक्टस, एकलिपा, लैटिना, टोपिया, गुलाब, मोगरा, शेवंगी आदि का समावेश है.