धान के ढेर जलाने की घटनाएं बढी, गोंडपिपरी में लगातार तीसरी घटना

  • मूल, नागभीड़ में भी धान जलाया

चंद्रपुर. कोरोना संकट और इसके पश्चात अतिवृष्टि से बची हुई धान फसल से किसानों को कुछ दिलासा मिली है। धान की कटाई की किसानों ने धान की फसल खलिहानों में रखी है। आपसी द्वेष एवं विवादों के चलते करीबी लोगों द्वारा किसानों की की मेहनत को आग के हवाले करने में बाज नहीं आ रहे है। धान के ढेर को आग लगाने की गोंडपिपरी में लगातार तीसरी घटना घटी वहीं मूल में भी एक किसान का धान जला दिया गया। अपनी फसल को बचाने के लिए किसान को खेतों में वन्यप्राणियों का खतरा मोल लेकर रखवाली करनी पड़ रही है।

गोंडपिपरी तहसील में पिछले पांच दिनों से अग्नितांडव शुरू है। धाबा परिसर के कोंढाणा गांव में एक किसान के काट कर रखे धान के ढेर को रात 9ब जे के दौरान आग लगाकर जला दिया गया।

पिछले सप्ताह भर से तहसील में किसानों में रोष व्याप्त है। आक्सापुर में एक किसानों के दो खेत में लगाया गया अंदाजन 200 क्विंटल धान कुछ आसामाजिक तत्वों ने जला डाला। इस घटना से उनका लाखों रुपयों का नुकसान हुआ। परिवार पर आर्थिक संकट आ गया है। ताजी घटना में धाबा परिसर के कोंढाणा के राजू येनंपल्लीवार नामक किसान के खेत में धान के ढेर को आग लगा दी गई। जिसमें उसका पूरा धान जलकर खाक हो गया। सूचना मिलने पर धाबा के थानेदार सुशील धोपटे ने मौके पर पहुंचकर तहकीकात की तो पता चला कि मानसिक रोगी महिला द्वारा इस घटना को अंजाम दिया गया। दरअसल महिला का खेत राजू के खेत के पास ही है। उसने अपने खेत को बटाई पर दिया था जिसमें धान उगने के बाद संबंधित व्यक्ति ने उसे बटाई की राशि नहीं दिए जाने से महिला क्षुब्ध थी उसने बटाई पर जिस व्यक्ति को खेत दिया था उसका धान रखा हुआ होने का समझकर राजू के धान को आग लगा दी।

चकदुगाला में धान जलाया

मूल तहसील के चक दुगाला में धान के ढेर को किसी अज्ञात व्यक्ति ने आग लगा दी। आग के कारण धान जलकर खाक हो गया. जिससे किसान का लाखों रुपयों का नुकसान हुआ।

तहसील के चकदुगाला के जनार्धन रामाजी उराडे के सामूहिक स्वामित्व की कुल खेत भूमि में से 2.40 हेक्टेयर  खेत जमीन सुखदेव दादाजी लवारे ने एक वर्ष के लिए ठेके में ली थी। कटाई करने के लिए धान  खेत में रखा था। शाम के समय साढे छह बजे के बीच धान को एक अज्ञात व्यक्ति ने आग लगा दी। धान जलता देख अग्निशामक दल की मदद ली गई परंतु तब तक धान जल चुका था। इससे किसान सुखदेव का लाखों का नुकसान होने का अनुमान है।

 नागभीड़ तहसील के सावर्ला (वाढोणा ) के किसान यशवंत खोब्रागडे खेत में रखे धान को अज्ञात ने आग लगा दी। यशवंत ने धान कटाई कर खेत में ही रखा हुआ था। गुरूवार की रात अज्ञात व्यक्ति ने उसमें आग लगा दी। घटना की शिकायत तलोधी बालापुर पुलिस थाने में की गई है।