पोस्टर डिजाईन व प्रेस नोट पर मनपा का प्रति दिन 7 हजार खर्च, स्वयं की प्रसिध्दी के लिए वर्ष का 24 लाख का ठेका

    • वेंटीलेटर, एम्बुलन्स व पाणी टैंकर के लिए नीधि को मनपा की ना
    • पार्षद देशमुख ने आयुक्त को सौपा पत्र 

    चंद्रपुर. चंद्रपुर महानगरपालिका ने पहले ही एक जनसंपर्क अधिकारी होते हुए चंद्रपुरवासियों के सामने स्वयं के कार्य की वाहवाही प्राप्त करने के लिए प्रसिध्दी करने का 24 लाख रूपए का ठेका नागपुर की एक कंपनी को दिया. एक वर्ष के लिए दिए गए इए कार्य का प्रतिदिन खर्च 7 हजार रूपए है. स्वयं की प्रसिध्दी के लिए मनापा इतना खर्च कर रही है परंतु वेंटीलेटर, एम्बुलन्स व पाणी टैंकर खरिदने के लिए मनपा के पास नीधि नही होने का आरोप पार्षद पप्पु देशमुख ने लगाया है. 

    आयुक्त को सोपे गए ज्ञापन में बताया गया कि, चंद्रपुर मनपा ने स्वयं की वाहवाही पाने की लिए प्रसिध्दी का ठेका 24 लाख रूपए में नागपुर की एक निजी एजन्सी को दिया है. एक वर्ष के लिए दिए गए कार्य का प्रतिदिन का खर्च 7 हजार रूपए है. इस निजि एजन्सी का 16 अप्रैल से शुरू किए गए काम का जायजा लेने पर प्रतिदिन 2 पोस्टर डिजाईन कर उसे फेसबुक, वाट्सएप, इंस्टाग्राम, ट्विटर आदि सोशल मिडिया पर पोस्ट करना इतना ही काम है.

    इन पोस्टर व प्रेस नोट के लिए सोशल मिडिया पर पोस्ट करने के लिए अलग से पैसे देने की आवश्यकता नही है. इसके लिए एजन्सी को काम देने के बजाय मनपा एक कर्मी भी यह कार्य कर सकता है. बाजार भाव पर देखने पर 2 पोस्टर के लिए 200 रूपये खर्च होते है परंतु इसके लिए मनपा 1 वर्ष के लिए 24 लाख अर्थात महीने का 2 लाख रूपये व प्रति दिन के करिबन 7 हजार रूपये एजन्सी को दिए जा रहे है. 

    कोविड आपदा में मरीजों को शहर में अस्पताल बदलने के 2 से 5 हजार रूपए वेंटीलेटर एम्बुलन्स के लिए खर्च करने पडे. नागपुर व अन्य स्थानों मरीजों को लेकर जाने के लिए 30 हजार रूपये मरीजों के रिश्तेदारों को खर्च करने पडे. परंतु पिछले एक वर्ष 19 लाख रूपए खर्च कर मनपा प्रस्तावित वेंटीलेटरयुक्त एम्बुलन्स नीधि के अभाव से नही खरीद पायी. वेंटीलेटर एम्बुलन्स खरीदने का प्रस्ताव जनवरी 2020 से धुल खा रहा है. 

    शहर में धुपकाले के चलते नगरवासीयों को जलसंकट का सामना करना पड रहा है. लोगों को जलापूर्ति करने हेतु टैक्टर की कमी है. टैंकर से 200 से 250 ट्रिप लगाकर शहर में जलापूर्ति की जा रही है. शहर के वनअकादमी व क्राईस्ट अस्पताल में प्रतिदिन 40 से 50 ट्रीप टैंकर को लगाना पड रहा है. मनपा केवल 8 टेंकर के भरोसे नगरवासीयों को जलापूर्ति करा रही है.

    शहर में टैंकर की कमी के चलते जलसंकट समस्या ग्रस्त परिसर के लोगों को 3 से 4 दिन टैंकर की राह देखने पड रही है. ऐसे में कुछ टैंकर किराए से लेकर शहरवासीयों का जलापूर्ति की जा सकती है. परंतु इस ओर निधि के अभाव से मनपा प्रशासन अनदेखी कर रही है. 

    मनपा प्रशासन के पास वेंटीलेटर एम्बुलन्स, आक्सिजन कान्सन्ट्रेटर व टैंकर के लिए निधि नही है ऐसी अवस्था होने के बावजुद मनपा सोशल मिडीया पर 2 पोस्टर डिजाईन व 1 प्रेस नोट पोस्ट करने के लिए महिने के 2 लाख व प्रतिदिन 7 हजार रूपए खर्च कर रही है. इस संदर्भ में पार्षद देशमुख ने संतप्त भावना व्यक्त करते हुए आयुक्त मोहीते को आडे हाथ लिया. इस दौरान संबंधित कंत्राट रद्द कर वेंटीलेटर एम्बुलन्स, पाणी का टैंकर व अन्य अत्यावश्य सुविधा पर खर्च करने की मांग की है.