रेत व सागौन तस्करी उजागर करनेवाले वनअधिकारी का तबादला

  • तबादला आदेश रद्द करने की जनता की मांग
  • सीएम के आदेशों को रखा ताकपर

शंकरपुर. रेत व सागौन तस्करी का मामला उजागर करनेवाले वनविकास महामंडल के वनपरिक्षेत्र अधिकारी रमेश बलैय्या का वनविभाग वरिष्ठ अधीकारीयों ने तबादला कर दिया. संबंधित वनअधिकारी ने रेत व सागौन तस्करी में कई टैक्टर व अवैध सागौन जब्त किए थे. रेत व सागौन तस्करीयों की साझगांठ के चलते वरिष्ठ अधिकारीयों ने संबंधित अधिकारी को बली का बकरा तो नही बनाया ऐसी चर्चा विभाग तथा परिसर के नागरिकों में चल रही है. ऐसे में वनपरिक्षेत्र अधिकारी रमेश बलैय्या का तबादला रदद करने की मांग परिसर के नागरिकों द्वारा की जा रही है. 

चिमुर तहसील क्रांतीविरों की भुमी से परिचीत है. इस भुमी से ताडोबा व्याघ्र प्रकल्प नजदिक होने से यहां के जंगल व वन्यप्राणीयों का संरक्षण यहां के वनअधिकारीयों का पहला कर्तव्य है. चिमुर वनपरिक्षेत्र अंतर्गत आनेवाले उपक्षेत्र खडसंगी में पिछले कुछ वर्ष पहले नियुक्त हुए वनपरिमंडल अधिकारी रमेश बलैय्या ने खाकी वर्दी के कर्तव्य को समझते हुए जंगल परिसर में बनों का संरक्षण, पर्यावरण का संतुलन, अवैध रेत उत्खनन, सागौन तस्करी करनेवालों पर अंकुश लगाने के लिए शुरूवात की. जिससे कुछ ही दिनों में वनअधिकारी ने दबंग अधिकारी नाम से प्रचलिए हुए. उन्होने अवैध रेत यातायात करनेवालों पर कार्रवाई करते हुए टैक्टर जब्ती कर तथा हाथभट्टी से शराब निकालनेवालों पर कार्रवाई करते हुए जंगल तथा वन्यप्राणियों की शिकारीयो से सुरक्षा करना शुरू की. इसी दौरान अवैध सागौन तस्करी जंगल में वृक्ष कटाई के उजागर किए. कर्तव्य को निभाते हुए उन्होने अवैध रेत तस्करी, सागौन तस्करी पर नर्बिंध लगाया. जिसके चलते अवैध रेत तस्कर तथा सागौन तस्करों के लिए वनअधिकारी रमेश बलैय्या मार्ग का काटा लगने लगा. इन मामलों में कई बडे प्रतष्ठिीतों का भांडा फुटनेवाला था इसलिए वरष्ठि अधिकारीयों ने साझगाठ कर वन परक्षिेत्र अधिकारी रमेश बलैय्या का कुछ ही दिनों में तबादला किया गया. 

भीसी वनपरक्षिेत्र अंतर्गत आनेवाले परिसर में लाखो रुपयों के सागौन जब्त की कारवाई की गयी. इसमें बडे प्रतष्ठिीत नागरिकों के साथट्ठसाथ वनविभगा के वनरक्षक, वनपाल के नाम आने की संभावना के चलते उनका तत्काल तबादला किया गया. चिमुर तहसील में भीसी, शंकरपुर, जांभुलघाट,

खडसंगी, नेरी क्षेत्र में प्रचलित हुए अवैध वृक्ष कटाई पर अंकुश लगा था. परंतु अब बलैय्या के तबादले से रेती तस्कर, सागौन तस्कर राहत की सांस ले रहे है. 

सीएम के आदेश को वरिष्ठ अधिकारीयों की अनदेखी 
फिलहाल देश में कोरोना प्रादुर्भाव के चलते लाकडाऊन चल रहा है. ऐसे में किसी भी विभाग में कर्मचारीयों के तबादले पर सीएम ने रोक लगाकर उस तरह को आदेश पारित किया है. इसके बावजुद वरष्ठि वनअधिकारीयों ने सीएम के आदेश को ताकपर रखकर लाकडाऊन में वनपरक्षिेत्र अधिकारी रमेश बलैय्या का तबादला किया है.