dhawan

 शारजाह. दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के बायें हाथ के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने इंडियन प्रीमियर लीग में अपना पहला शतक जड़ने के बाद कहा कि चेन्नई सुपर किंग्स का पारी का अंतिम ओवर रविंद्र जडेजा को देना उनकी और अक्षर पटेल की बायें हाथ की बल्लेबाजी जोड़ी के लिए फायदे की स्थिति थी। जीवनदान का फायदा उठाते हुए धवन ने नाबाद 101 रन की पारी खेली जबकि अक्षर ने अंतिम ओवर में तीन छक्के जड़े जिससे दिल्ली की टीम ने आखिरी ओवर में जरूरी 17 रन जुटाकर शनिवार को सुपरकिंग्स के खिलाफ पांच विकेट की जीत दर्ज की।

धवन ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘हमें पता था कि ड्वेन ब्रावो अंतिम ओवर नहीं डाल पाएगा और यह ओवर जडेजा को करना होगा। बायें हाथ के बल्लेबाज होने के कारण हम जडेजा के खिलाफ थोड़ा फायदे की स्थिति में थे।” डेथ ओवर के विशेषज्ञ गेंदबाज ब्रावो के ग्रोइन की चोट के कारण मैदान से बाहर जाने के बाद सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अंतिम ओवर में गेंद जडेजा को थमाई जबकि 19वें ओवर में सैम कुरेन ने सिर्फ चार रन दिए थे। धवन ने कहा, ‘‘सैम कुरेन ने 19वें ओवर में काफी अच्छी गेंदबाजी की, उसने काफी अच्छे यॉर्कर डाले, ओस भी थी और हमने इसका भी फायदा उठाया।”

धवन ने अक्षर के योगदान की सराहना की और कहा कि टीम में स्तरीय आलराउडंर के होने से बड़ा अंतर पैदा होता है। अपने प्रदर्शन के संदर्भ में धवन ने कहा कि वह सकारात्मक रहना चाहते थे और अपने ऊपर भरोसा कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘मैं हमेशा अपनी प्रक्रिया पर ध्यान देता हूं। मैं अच्छा खेल रहा था। मैं सकारात्मक रहा और आत्मविश्वास बरकरार रखा। मेरे पास काफी अनुभव है, आज मैंने आंकड़े भी बदल दिए।” धवन ने कहा, ‘‘मैं जब भी रन बना रहा था तो गलतियां भी कर रहा था। मैं विश्लेषण कर रहा था कि क्या करना है, कौन सा शॉट खेलना है और कौन सा नहीं। मैं चयन कर रहा था कि विभिन्न पिचों पर कौन से शॉट खेलने हैं या क्या रणनीति अपनानी है।” धवन ने कहा कि टीम काफी अच्छा क्रिकेट खेल रही है और सभी अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इस जीत के बाद दिल्ली की टीम अंक तालिका में शीर्ष पर पहुंच गई है।