इस फिल्म के कास्टिंग के लिए लग गया एक साल, शामिल किये 300 से ज्यादा नए एक्टर्स

मुंबई. हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में कई ऐसी फिल्मे है जिनके कास्ट को फाइनल करने में सालों लग जाते है। ऐसा ही कुछ फिल्म 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' के साथ हुआ है। यह फिल्म साल 2012 में भारत में रिलीज हुई

मुंबई. हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में कई ऐसी फिल्मे है जिनके कास्ट को फाइनल करने  में सालों लग जाते है। ऐसा ही कुछ फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ के साथ हुआ है। यह फिल्म साल 2012 में भारत में रिलीज हुई थी। यह फिल्म दर्शकों को काफी पसंद आयी थी। साथ ही इस फिल्म के गाने, और डायलॉग ने लोगो का दिल जीत लिया था। लेकिन, क्या आप जानते है कि, इस फिल्म के कास्ट को फाइनल करने में एक साल का वक्त लग गया था।


 
गैंग्स ऑफ वासेपुर के कास्ट डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा ने एक मीडिया इंटरव्यू में बताया कि, इस फिल्म के कास्ट को फाइनल करना काफी मुश्किल काम था। हमने काफी गंभीरता से इस फिल्म की कास्टिंग का काम पूरा किया। फिल्म के किरदारों के लिए करीब 384 एक्टर्स को कास्ट किया गया था। इस पुरे काम में करीब एक साल का वक्त लग गया।
 
 
आगे मुकेश छाबड़ा ने कहा, इस फिल्म में ज्यादा से ज्यादा नए लोगो को शामिल करने का टारगेट था। नए चेहरे के साथ काम करना थोड़ा मुश्किल था लेकिन, सभी लोगो ने काफी मेहनत की और इस मेहनत का अच्छा परिणाम भी मिला। यह फिल्म दर्शकों को बेहद पसंद आयी थी। बता दे कि , इस फिल्म के दो पार्ट रिलीज हो चुके हैं, यह दोनों पार्ट दर्शकों को काफी पसंद आये थे।