‘कोरोना’ मृत्यु रोकने के लिए मुहिम – जिलाधिकारी

  • अबतक 66 हजार परिवार के 2 लाख 37 हजार नागरिकों की जांच पूर्ण

गडचिरोली. कोरोना संक्रमण को टक्कर देने तथा स्वयं होकर कोरोना प्रतिबंधात्मक उपाययोजना चलाने के लिए नागरिकों का सहभाग बढ रहा है। कोरोना के संदर्भ में सरकार की ओर से शुरू किए गए ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी ‘ मुहिम एक जनआंदोलन के रूप में आगे आ रही है। इस मुहिम का उद्देश कोरोना बाधितों को खोजकर उन्हे स्वास्थ्य सेवा देना तथा कोरोना के कारण होनेवाले मृत्यु को रोकना है, ऐसा कथन जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने किया।

जिले में ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ इस मुहिम का पहला चरण 21 सितंबर से शुरू हुआ है। इस मुहिम के अंतर्गत जिले के 11 लाख नागरिकों की स्वास्थ्य जांच होनेवाली है। अबतक पूर्ण हुए 2,37,989 नागरिकों के जांच के बाद 406 सारी व आईएलआई के मरीज मिले. वहीं ऑक्सीजन स्तर आवश्यक 95 से अधिक नहीं होनेवाले 911 लोग मिले है। इसमें से संभावित मरीजों में से 506 लोगों को आशा व दल ने करीबी कोविड सेंटर में दाखिल किया है। उनकी आगामी जांच होनेवाली है। संदर्भित किए गए 506 लोगों में से कल तक कोविड जांच किए गए 18 में से 3 मरीज कोरोना बाधित पाए गए है। अन्य लोगों की जांच स्वास्थ्य विभाग के मार्गदर्शक सुझाव का पान किया जाएगा।

तहसील निहाय जानकारी

इस मुहिम अंतर्गत अहेरी तहसील में 2545 (10466), आरमोरी 6129 (22340), भामरागड 2239 (7789), चामोर्शी 11592 (35644), धानोरा 9191 (34191), एटापल्ली 907 (3723), गडचिरोली 6573 (19296), कोरची 4579 (17157), कुरखेडा 8802 (29169), मुलचेरा 3676 (11850), सिरोंचा 3426 (10320) व वडसा तहसील में 6527 (36044) की जांच की गई है। इस मुहिम अंतर्गत प्रशासन द्वारा नियुक्त किए गए दल द्वारा घर के सदस्यों का तापमान, आक्सीजन तथा को-मॉर्बिड मरीज है क्या इसकी जानकारी ली जा रही है। बुखार, खांसी, दम, आक्सीजन कम होना आदि कोविड सदृष्य लक्षण होनेवाले नागरिकों को करीबी हास्पिटल को को सौंपा जाता है। वहां कोविड-19 की जांच कर आगामी उपचार किए जाते है। इसके लिए नागरिक से कोरोना दुतों को सहयोग की अपील जिलाधीश दीपक सिंगला ने की है।