महामारी : वैक्सीनेशन को लेकर युवाओं में उत्साह, आपदा पर नियंत्रण की तैयारी

    • कोरोना से बचने टीका लगाना जरूरी

    गड़चिरोली.  वर्तमान स्थिति में राज्य समेत गड़चिरोली जिले में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है. इससे पहले सरकार ने 45 वर्ष आयुसीमा से अधिक के लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवाना शुरू किया था. और अब आगामी 1 मई से 18 वर्ष आयुसीमा से अधिक सभी लोगों को कोरोना का टीका लगवाने की मुहिम शुरू करने का निर्णय सरकार ने लिया है.

    ऐसे में सरकार के इस निर्णय का राज्य के आखिरी छोर पर बसे गड़चिरोली जिले के युवक-युवतियों ने स्वागत करते हुए सरकार का निर्णय कोरोना की श्रृंखला तोड़ने के लिये कारगर साबित होने की बात अपनी प्रतिक्रिया में कही है. गड़चिरोली आदिवासी बहुल और सबसे पिछड़े जिले के रूप में पहचाना जाता है. लेकिन सरकार के निर्णय के बाद इस जिले के युवा कोरोना टीका लगवाने में काफी उत्साहित दिखाई दे रहे हैं. 

    सरकार के निर्णय का स्वागत -पटेल

    सूरज पटेल ने कहा कि देश समेत राज्य में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़़ रहा है. जिससे बाधितों की संख्या बढ़ऩे के साथ मृतकों का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है. इस वर्ष से सरकार ने 45 वर्ष आयुसीमा के अधिक के लोगों को कोरोना का टीका लगवाना शुरू किया. अब आने वाले 1 मई से 18 वर्ष आयुसीमा के सभी लोगों को कोरोना का टीका लगवाने का निर्णय लिया गया है. जिससे इस निर्णय का स्वागत करते हैं.

    टीका के साथ नियमों का पालन करना जरूरी- लभाने

    मयूरी लभाने ने कहा कि सरकार ने आगामी 1 मई से 18 वर्ष आयुसीमा से अधिक लोगों को कोरोना का टीका लगवाने का निर्णय लिया है, जो स्वागतपूर्ण है. लेकिन टीका लगवाने के साथ ही युवाओं को अपनी जिम्मेदारी का पालन करना होगा. कोरोना नियमों को अपनी नैतिक जिम्मेदारी समझकर नियमित मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा. तभी हम कोरोना को हरा पाएंगे.

    युवाओं के लिये सरकार का सही निर्णय – अर्जुनकार 

    गणेश अर्जुनकार ने कहा कि युवा देश का भविष्य हैं. युवाओं की सुरक्षा होना बेहद जरूरी है. ऐसे में सरकार ने 1 मई से 18 वर्ष आयुसीमा से अधिक सभी लोगों को कोरोना का टीका लगवाने का निर्णय लिया है. सही मायने में देखा जाए तो, इसका लाभ युवाओं को अधिक होगा. जिससे सरकार यह निर्णय युवा वर्ग के लिये सही  है. लेकिन जिस तरह कोरोना को लेकर सरकार गंभीरता दिखा रही है, उसी तरह युवाओं को भी गंभीरता दिखानी होगी. तब सही मायने में कोरोना के साथ जारी यह जंग हम जीत पाएंगे.

    युवाओं को मिलेगी संजीवनी- बोगुजवार

    पूजा बोगुजवार ने कहा कि गत वर्ष देश में कोरोना का संक्रमण बढ़ऩे के कारण अनेक लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी. लेकिन कोरोना के दूसरी लहर के पहले ही सरकार ने कोरोना वैक्सीन तैयार कर देश के नागरिकों के लिये संजीवनी जैसी दवा तैयार की है. अब 18 वर्ष आयुसीमा से अधिक सभी लोगों को कोरोना का टीका लगवाने का निर्णय सरकार द्वारा लिया गया है. जो युवाओं के लिये संजीवनी साबित हो सकती है. लेकिन इसके साथ ही अपनी जिम्मेदारी भी युवाओं को निभानी होगी.

    अफवाहों के फेर में न पड़ें -भशाखेत्री

    भूषण भशाखेत्री ने कहा कि एक तरफ सरकार ने 18 वर्ष आयुसीमा से अधिक सभी लोगों को कोरोना का टीका लगवाने का निर्णय लिया है. वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया पर वैक्सीन को लेकर अलग-अलग तरह की अफवाहें फैलाई जा रही हैं. लेकिन सरकार ने युवाओं को केंद्रबिंदु मानते हुए यह निर्णय लिया है. जिससे युवा सरकार के निर्णय स्वागत करना चाहिए. और सोशल मीडिया के जरिये फैलाई जा रही अफवाह पर विश्वास नहीं रखना चाहिए. युवा सुरक्षित है तो, उनका परिवार भी सुरक्षित रहेगा.

    टीका से युवा रहेंगे सुरक्षित-उमरे

    सचिन उमरे ने कहा कि सरकार ने आगामी 1 मई से 18 वर्ष आयुसीमा से अधिक सभी लोगों को कोरोना का टीका लगाने का निर्णय लिया है. सरकार के इस निर्णय से युवा सुरक्षित महसूस करेंगे. किंतु कोरोना के इस जानलेवा दौर में सरकार को सहयोग करने के लिये युवाओं को भी अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करना होगा. यदि युवा अपने सहयोगी समेत परिजन और रिश्तेदारों को सरकार के नियम व निर्णय संदर्भ में जनजागृति करेंगे तो, यह पहल सरकार को मदद के लिये काफी महत्वपूर्ण साबित होगी.