कोरोना में भी बेफिक्र नजर आ रहे लोग!

  • न हो रहा मास्क का उपयोग, ना ही सोशल डिस्टन्सिंग का पालन
  • कोरोना की दुसरी लहर ढा सकती है कहर

गडचिरोली. दीपावली के बाद जिले में कोरोना बाधितों की संख्या में तेजी से वृद्धी हो रही है. मात्र शहर समेत ग्रामीण क्षेत्र के अनेक नागरिक सार्वजनिक जगह पर बिना मास्क लगाए घुम रहे है. फिलहाल मास्क ही कोरोना संक्रमण रोकने का एकमात्र उपाय है. मात्र बस स्टैंड, पेट्रोलपंप, साप्ताहीक बाजार, दैनंदिन गुजरी बाजार तथा अन्य सार्वजनिक जगह पर नागरिक बिना मास्क लगाए घुमते नजर आ रहे है.

दीपावली त्यौहार के पर्व पर सरकार ने अनेक पाबंदिया शिथील किए गए. जिससे दीवाली खरीदी के लिए नागरिकों ने बाजार में भीड की थी. दीवाली के कालावधि में जिले की कोरोना बाधितों की संख्या कम हुई थी. मात्र दीवाली त्यौहार खत्म होने पर फिर से कोरोना बढता जा रहा है. दिन ब दिन बाधितों की संख्या तेजी से बढ रही है. ऐसे स्थिती में सार्वजनिक जगह पर नागरिकों को बिना मास्क के देखे जाने से नागरिको के मन से कोरोना का भय समाप्त होने की बात कहीं जा रही है. शहर के सार्वजनिक जगह पर बडे पैमाने में नागरिकों की भीड होने से सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करने की ओर अनदेखी की जा रही है.

बिना मास्क के बसस्टैंड पर यात्री

त्यौहार के दिन होने से बस से यात्रा करनेवाले यात्रियों की संख्या जिले में बडे पैमाने में है. जिससे बसस्टैंड पर यात्रियों की भारी भीड हो रही है. मात्र बसस्टैंड पर यात्रि फिजीकल डिस्टीन्सिंग तथा मास्क का उपयोग करने की ओर अनदेखी कर रहे है. कई लोग कपडा, रूमाल गले में लटकाए हुए नजर आते है. चालक, वाहकों की भी इसकी ओर ध्यान नहीं होता है. किसी भी यात्रि को मास्क संदर्भ में पुछताछ नहीं की जाती है. बसस्टैंड पर बिना मास्क रहनेवाले यात्रियों की भीड को देखते हुए कोरोना संक्रमण बढने की संभावना है.

पेट्रोल पंप पर भी बिना मास्क भीड

शहर में कुछ माह के पूर्व वाहन में पेट्रोल, डिझेल भरते वक्त हर लोग मास्क लगाकर, सोशल डिस्टन्स का पालन करते नजर आ रहे थे. मात्र अब कोरोना का डर खत्म होने पर अनेक वाहनधारक बिना मास्क पेट्रोल पंप पर नजर आ रहे है. पेट्रोल पंप पर आनेवाले अधिक ग्राहकों के मुंह पर मास्क नहीं रहता है. पेट्रोल देते वक्त कोई भी कुछ न कहने पर ग्राहक भी मास्क लगाने की ओर अनदेखी कर रहे है. 

प्रशासन ने ध्यान देने की आवश्यकता

मार्च माह से रौद्ररूप धारन करनेवाले कोरोना वायरस से लॉकडाऊन, संचारबंदी घोषित की गई. जिलास्तर भी इसका कडाई से अंमल किया गया. इस दौरान नागरिक भी प्रशासन के निर्देशों का पालन कर सामाजिक दूरी, मास्क का उपयोग कर रहे थे. मात्र सरकार ने निर्बंध शिथील करते ही अनेक नागरिक बेखौफ होकर सरकार के नियमों का पालन करने की ओर अनदेखी करने लगे है. इसकी ओर प्रशासन ने ध्यान देकर बिना मास्क घुमनेवाले नागरिकों पर कडी कार्रवाई करे, ऐसी मांग सुज्ञ नागरिकों द्वारा हो रही है.

अब तक जिले में 79 बाधितों की मृत्यू 

विगत 24 घंटे में जिले में 1 कोरोना बाधित का मृत्यू हुआ है. जिससे अब तक जिले के कोरोना बाधितों की मृत्यू संख्या 79 हुई है. वहीं रविवार 29 नवंबर को नए 52 बाधित पाए गए. तथा 77 लोगों ने कोरोना से जंग जीती. जिससे जिले में अब तक बाधित 7915 में से कोरोनामुक्त होनेवालों की संख्या 7124 पर पहुंची है. तथा हाल ही में 712 सक्रीय कोरोना बाधितो पर उपचार शुरू है. नए 1 मृत्यू में चामोर्शी तहसील के आष्टी यहा का मधूमेहग्रस्त पुरूष का समावेश है. नए 52 बाधितों में गडचिरोली 19, अहेरी 15, आरमोरी 5, भामरागड 2, चामोर्शी 3, धानोरा 1, एटापल्ली 1, मुलचेरा 1 व वडसा के 5 लोगों का समावेश है. रविवार 29 नवंबर को कोरोनामुक्त होनेवाले 77 मरीजों में गडचिरोली 38, अहेरी 5, आरमोरी 9, भामरागड 3, धानोरा 1, एटापल्ली 2, मुलचेरा 2, सिरोंचा 2, कुरखेडा 6 व वडसा के 9 लोगों का समावेश है.