Health Ministry Approves Emergency Use of Russia's 'Sputnik V' Vaccine in India
Representative Image

गोंदिया. जिले में दिसंबर के अंत तक या जनवरी के प्रथम सप्ताह में कोरोना के टीके आने की संभावना है.  सबसे पहले स्वास्थ्य क्षेत्र के कर्मियों व अधिकारियों को टीके दिए जाएंगे. टीकाकरण के दौरान कोई लापरवाही न हो इसके लिए चुनाव की तरह बूथ तैयार कर वहां टीका देने के लिए कर्मियों की सूची रखी जाएगी. जिले में 55 शासकीय स्वास्थ्य संस्था, 57 निजी अस्पताल के 8636 डाक्टर, नर्सेस व स्वास्थ्य कर्मियों को टीका दिया जाएगा. इसके लिए 950 व्हायल की जरुरत पडेगी. जिन्हें रखने के लिए शीतपेटी की भी व्यवस्था की गई है. इस कार्य को पूर्ण करने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. जिलाधीश दीपककुमार मीना स्वयं इस पर नजर रखे हुए हैं. 

किसे मिलेगा सबसे पहले टीका  

कोरोना का टीका आने के बाद सबसे पहले डाक्टर, नर्स व स्वास्थ्य कर्मियों को दिया जाएगा. इसमें कुल 8636 वैद्यकीय क्षेत्र के व्यक्तियों का समावेश है. टीकाकरण करते समय किस बात का ध्यान रखा जाए इसके लिए कर्मियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. 

2 हजार कर्मी होंगे प्रशिक्षित

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव लव अग्रवाल के मार्गदर्शन में जिले के वैद्यकीय अधिकारी व कर्मियों का टीकाकरण के संदर्भ में ऑन लाइन मार्गदर्शन किया गया है. इसके बाद चरणबध्द तरीके से जिले के समस्त वैद्यकीय अधिकारी, नर्सेस, स्वास्थ्य कर्मी इस तरह 2 हजार कर्मियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा.