Gopaldas Agrawal
File Photo

गोंदिया. शहर सिटी सर्वे की प्रलंबित मांग को लेकर पूर्व विधायक गोपालदास अग्रवाल ने राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात से भेंट की. इसके बाद राज्य सरकार के राजस्व विभाग व वनविभाग के शासन निर्णयानुसार मंजूरी दे दी गई है. अब गोंदिया शहर के सीटी सर्वे का मार्ग प्रशस्त हो गया है.

उल्लेखनीय है की सिटी सर्वे के लिए करीब 4 करोड़ रु. की निधि की आवश्यकता थी, लेकिन राजस्व विभाग के पास इस मदद में निधि उपलब्ध नहीं होने से कार्य लंबित था. अग्रवाल पिछले अनेक वर्षों से शहर के सिटी सर्वे के लिए प्रयासरत थे.

4 करोड़ की निधि नप से हुई प्राप्त
दिसंबर 2018 में उन्होंने  इसके लिए लगने वाली  4 करोड़ रु. की निधि को  नगर परिषद में उपलब्ध विकास निधि के ब्याज में से खर्च करने की मंजूरी दिलाई. नगराध्यक्ष  अशोक  के. इंगले से 26 मार्च 2019 को प्रथम किश्त 90 लाख रु. का धनादेश जिला अधीक्षक भूमि अभिलेख गोंदिया को दिलवाया.  

शुरू हुई कार्यवाही
अब राजस्व विभाग द्वारा शहर के नए  सीटी सर्वे का मार्ग प्रशस्त हो गया. सर्वे की   योजना  2018 में शुरू हुई थी. उस समय  लोकलेखा समिति प्रमुख थे.  राजस्व विभाग और नगर विकास विभाग के  संयुक्त सहयोग से अंतत: राजस्व विभाग ने गोंदिया के सर्वे को मंजूरी दी.  इस कार्य को गति देने के लिए   अग्रवाल व नगराध्यक्ष इंगले का पार्षद शकील मंसूरी, स्वेता महेन्द्र पुरोहित, सुनील तिवारी, निर्मला मिश्रा, शीलु राकेश ठाकुर, क्रांतिकुमार  जायस्वाल, दीपिका रुसे,  भागवत मेश्राम, पराग अग्रवाल, दिलीप गोपलानी, मौसमी चेतन सोनछात्रा, विवेक मिश्रा, मैथुला   बिसेन, हेमलता पतेह, रत्नमाला साहू, वर्षा खरौले, अनिता मेश्राम आदि ने  अभिनंदन किया है.