सर्वे होकर भी रुका कोटीटोला बांध का निर्माण, बांध का पानी दिलाने तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

    सालेकसा. पूर्व जिप सदस्य राजकुमार दमाहे व प्रेमलता दमाहे ने 11 ग्रापं व नपं के किसानों को कोटीटोला बांध को मंजूरी दिलाकर किसानों के खेत में पानी की पूर्ति कराने को लेकर सांसद अशोक नेते के नाम लिखा ज्ञापन तहसीलदार को सौंपा.

    ज्ञापन में कहा गया है कि 3 वर्ष पूर्व कोटीटोला बांध के लिए सर्वे हुआ था लेकिन तीन वर्ष बीत जाने पर भी बांध निर्माण के लिए अब तक शासकीय मंजूरी नहीं मिली है. सांसद व पूर्व विधायक इनकी राज्य व केंद्र में सरकार रहने पर भी इस बांध निर्माण की ओर ध्यान नहीं दिया गया.

    वर्तमान परिस्थिति यह है कि ग्रापं कोसमतर्रा, नवाटोला, जांभडी, बाकलसर्रा, खडखडीटोला, निंबा, कहाली, पाउलदौना, पांढरी, बाम्हणी, खेडेपार, रोंढा, महाराजीटोला, पिपरिया, रामाटोला, गल्लाटोला, कोहकाटोला, निमटोला व हलबीटोला इन ग्रामों में बिना विद्युत के पीने का पानी नहीं मिल पाता ऐसे में किसानों के खेत का क्या हाल हो रहा होगा? पिछले दो वर्षो से इन ग्रामों के किसानों की नर्सरी पानी के अभाव में जलकर सूख जाती है. जबकि इन ग्रामों के ग्रामीणों के पास खेती के अलावा दूसरा रोजगार नहीं है. 

    10 सालों से हो रही बांध बनाने की मांग

    क्षेत्र में पानी का कोई साधन नहीं है. पीने के पानी के लिए बनाई गई बोर से भी पानी नहीं आता. इस समस्या को लेकर पिछले 10 वर्षो से नागरिकों द्वारा बांध बनाए जाने की मांग की जा रही है लेकिन आज तक शासन से इस दिशा में कोई सूचना जारी नहीं हुई है. इन ग्रामों के किसान बेबस हो चुके है.

    अत: किसानों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए वर्तमान सांसद व विधायक जल्द से जल्द कोटीटोला बांध निर्माण को मंजूरी दिलाकर उसे पुरा कराए. ज्ञापन की प्रतिलिपि विधायक सहसराम कोरोटे, पूर्व विधायक संजय पुराम को भी भेजी गई है.