Fourth class worker denied promotion, related department is deferring

अर्जुनी मोरगांव. शासकीय सेवा में कार्यरत कनिष्ठ अभियंताओं के 50 प्रश पद पदोन्नती से भरे जाए ऐसे शासन के स्पष्ट निर्देश है. वर्तमान में स्थापत्य अभियांत्रिकी सहायक के रुप में जिप में कार्यरत है. उन्हें पदोन्नती देकर कनिष्ठ अभियंता पद की नियुक्ति करे ऐसा मानक होने के बाद भी पिछले कुछ वर्षों से उन्हें पदोन्नत नही किया गया है. इस पद भर्ती प्रकरण की फाईल डेढ़ वर्षों से विभाग के चक्कर काट रही है. इसी में पदोन्नती से पद भर्ती की प्रतीक्षा करने वाले फिलहाल सेवानिवृत्ती की दहलीज पर खडे़ है. जिले में कनिष्ठ अभियंता के अनेक पद रिक्त है. एक ही अभियंता के पास 2 पदभार है.

अतिरिक्त काम की वजह से कार्य की प्रगती में विलंब होता है. स्थापत्य अभियांत्रिकी सहायक से पदोन्नत कर कनिष्ठ अभियंता के पद भरने के लिए पिछले कुछ माहों से बांधकाम से सामान्य प्रशासन विभाग में फाईल घूम रही है. दो विभागों की रस्सा कस्सी से कनिष्ठ अभियंता पद भर्ती रुक गई है. स्थापत्य अभियांत्रिकी सहायकों को सेवानिवृत्ती के लिए 1 वर्ष 6 माह शेष रहने पर भी बांधकाम विभाग की अडियल नीति से स्थापत्य अभियांत्रिकी सहायकों की पदोन्नती नही हुई है.

पिछले डेढ़ वर्षों से पदोन्नती की फाईल सामान्य प्रशासन विभाग से बांधकाम विभाग ऐसा चक्कर जिप में शुरु है. इसी बीच सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा पदोन्नती प्रक्रिया पुर्ण कर लेने की जानकारी मिली है. लेकिन अब भी सेवानिवृत्त होने वाले स्थापत्य अभियांत्रिकी सहायकों को पदोन्नत से वंचित रहना पड़ रहा है. जिप सदस्यों ने इस प्रकरण में जिप प्रशासन का ध्यान आकर्षित कर पदोन्नती पद भर्ती तत्काल करने की सुविधा दी है. जिप में अनेक पद रिक्त है. जिससे विकास कार्यों पर विपरित परिणाम हो रहा है.