पुलिस व राजस्व विभाग आमने-सामने

  • अवैध रेत ढुलाई की जांच ठंडे बस्ते में

गोरेगांव. पुलिस स्टेशन गोरेगांव अंतर्गत 8 नवंबर की रात 2 बजे पुलिस उपनिरीक्षक गोपाल देशमुख ने अपने सहयोगियों के साथ गश्त के दौरान मुंडीपार परिसर में रेत का यातायात करने वाले संदिग्ध टिप्पर को पाया था. इसकी जांच करने टिप्पर को पुलिस स्टेशन में जमा किया गया था. घटना की जानकारी पुलिस निरीक्षक दीपक वंजारी को देकर उनके मार्गदर्शन में तहसीलदार को संबंधित रेती टिप्पर पर कार्रवाई करने के लिए पुलिस ने आग्रह किया, लेकिन अब तक सही जानकारी सामने नहीं आने की बात कहकर तहसीलदार ने कोई भी कार्रवाई नहीं की है.

सबूत जुटाने में लगा पुलिस विभाग

वहीं पुलिस विभाग सबूत एकत्र कर कार्रवाई करने के लिए प्रयास कर रहा है. जबकि राजस्व विभाग कार्रवाई के लिए ठोस सबूतों की मांग पुलिस विभाग से कर रहा है, इस कार्रवाई को लेकर दो विभागों में आपस में ही खींचतान शुरू है, जिससे जब्त किए गए टिप्पर का क्या होगा ? यह सवाल किया जा रहा है. जिले रेती चोरी के प्रकरण में बड़ी संख्या में वृद्धि हुई व   शासन के राजस्व में कमी आ गई है. जिलाधीश स्वयं अनेक उपाय योजना कर चोरी की घटनाओं पर अंकुश लगाने का प्रयास कर रहे हैं. 

आरटीओ से मांगी जांच रिपोर्ट

इस प्रकरण में देशमुख द्वारा संदिग्ध पाया गया टिप्पर (क्र. एमएच 35 एजे 1299) के चालक विकास मारबदे के पास मिली रॉयल्टी ऑनलाइन जांच की गई, जिससे रॉयल्टी सही या गलत इसे लेकर संदेह निर्माण हो गया है, इतना ही नहीं टिप्पर में ले जाई जा रही रेत कितनी है, इसकी जांच के लिए धर्मकाटे पर ले जाय गया जहां 5 ब्रास रेती होने की जानकारी मिली.

रॉयल्टी मध्यप्रदेश की है किंतु टिप्पर परिवहन के दौरान किसी भी नाके के सील या हस्ताक्षर नहीं पाए गए है, जिससे पुलिस विभाग ने शासन के राजस्व की वसूली हो, इसके लिए तहसीलदार को सूचना दी, इस पर जांच अधिकारी नायब तहसीलदार चांदेवार ने कथित टिप्पर की जांच कर अनुमान अनुसार 4.50 ब्रास रेती होन की रिपोर्ट दिया, जबकि तहसीलदार के दिए पत्र में 4 से 4.50 ब्रास रेती होने पर कार्रवाई नहीं की जा सकती.

ऐसा पत्र पुलिस विभाग को मिलने से पेंच निर्माण हो रहा है. इस पर सक्षम अधिकारी के रूप में आरटीओ कार्यालय से जांच रिपोर्ट मांगी गयी है. इसके बाद परिवहन अधिकारी ने घटनास्थल पर लोड ओवरलोड की जांच कर 5.34 ब्रांस रेती होने की रिपोर्ट दी है. इस प्रकरण को लेकर क्षेत्र में तरह तरह की चर्चाएं शुरू है.