50 cooks quarantined, including newlyweds, women cooks came in contact with positive

    गोंदिया. कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या में कुछ दिन से कमी देखी जा रही है. संक्रमणग्रस्त मरीजों के घर पर स्वास्थ्य, आशा सेविकाओं के माध्यम से नप द्वारा क्वारंटाइन कालावधि में उल्लेख कर बोर्ड लगाए जा रहे हैं. लेकिन कई लोगों के घर पर लगाए गए बोर्ड कुछ ही घंटों में गायब हो रहे हैं जिसका कारण घर की बदनामी बताया जा रहा है.

    संक्रमित मरीज व उनके परिजनों को लोग हीन भावना के नजरिये से देखते हैं इस कारण भी घरों में चिपकाए गए पाम्पलेट फाड़कर फेंके जा रहे हैं. साथ ही कई नागरिक बोर्ड लगाने से मना कर रहे हैं. हम कोरोना बाधित हैं लेकिन घर पर बोर्ड लगाकर प्रदर्शन न करें. यह कह कर कुछ नागरिक आशा सेविकाओं पर दबाव डालते नजर आ रहे हैं.

    कोविड रिपोर्ट पाजिटिव आने के बाद लक्षण न होने वाले तथा सौम्य लक्षण वाले मरीज को घर पर ही गृह विलगीकरण में रखा जा रहा है. गृह विलगीकरण वाले मरीज के घर पर आशा सेविका, नप के कर्मचारी फलक लगा रहे हैं. लेकिन कई क्षेत्रों में बोर्ड लगाने से मना किया जा रहा है. वहीं कुछ परिसर के लोगों ने बोर्ड तो लगाने दिए और कुछ देर बाद ही निकाल भी डाले.