Corona
File Photo

गोरेगांव. नगर में दिनोंदिन कोरोना मरिजों की संख्या बडे पैमाने में बढ. रही है. नगर में पुलिस थाना, पं.स. कार्यालय आदि में कोरोना मरिज बढ रहे है. कार्यालयीन कामकाज से आने वाले ग्रामीण लोंगों को भी कोरोना होने की संभावना बढने लगी है. यह नगर वासियों के लिए चिंताजनक हो रहा है. नगर के हर मोहल्ले के लोग जनता कर्फ्यू लगाने कि मांग कर रहे है.

जिले के सभी तहसिलों मे कोरोना के बढते मरिजों की तुलना में गोरेगाव तहसिल में कम मात्रा में कोरोना के मरिज थे. इसमें यहां के तहसीलदार राजेंद्र वाकचौरे, स्वास्थ विभाग, पुलिस निरीक्षक सुरेश नारनवरे, नपं अध्यक्ष आशीष बारेवार, उपाध्यक्ष सुरेश रहांगडाले व सभी पार्षद व नपं मुख्याधिकारी हर्षला राणे व उनके सभी कर्मचारी कोरोना योध्दा साबित हुए. लेकिन बाहर से आने वाले लोगों ने अपनी जांच न करते हुए समाज में शामिल होने के कारण मरिजों कि संख्या बढने लगी है ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है.

शासन और प्रशासन द्वारा लगाए प्रतिबंध का पालन सही तरिके से नही होने से कोरोना मरिजों में वृध्दि होने कि आशंका व्यक्त की जा रही है. लेकिन बढते कोरोना मरिज और मृत कोरोना मरिजों की संख्या बढती देख लोगों मे चिंता बढने लगी है. हर प्रयास कर इसे रोका जाना ही आज कि जरुरत है. इसिलिए नगर वासियों ने जनता कर्फ्यू लगाने की मांग की है.

नगराध्यक्ष आशीष बारेवार के अनुसार शीघ्र बैठक लेकर पांच दिन का कर्फ्यू लगाने का निर्णय जनता के हित में लिया जाएगा, जनता की प्राथमिक जांच करने का कार्य नगर में शुरु है, कर्मचारी संख्या कम होने से इस कार्य को गति देने के लिए तहसीलदार से चर्चा कर कर्मचारियों की मांग भी करेंगे और तेजी से जांच की जाएगी, नगर वासियों को आव्हान करते हुए उन्होंने कहा कि शासन, प्रशासन के कोरोना के नियमों का पालन कर अपनी जान को संभालना ही समझदारी होगी.