If you want to please mother in Navratri, do not do this work

गोंदिया. कोरोना संक्रमण के तहत शासन द्वारा नियमों व शर्तों के साथ उत्सव को अनुमति दी जा रही है. 17 अक्टूबर से शारदीय नवरात्रि उत्सव प्रारंभ हो रहा है, लेकिन प्रतिवर्ष की तरह इस बार वह रौनक नहीं होगी, मातारानी के दरबार में श्रद्धालुओं की भीड़ नहीं लगेगी, दूर से ही दर्शन करने होंगे.

शहर में इंगले चौक, दुर्गा चौक, गांधी प्रतिमा चौक, शंकर चौक, सिंधी कॉलोनी के दुर्गा मंडलों के साथ ही अन्य मंडलों द्वारा प्रतिवर्ष पंडालों में विभिन्न प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों की प्रतिकृति के साथ भव्य मूर्तियां स्थापित करने के साथ ही साज सज्जा व महाप्रसाद के आयोजनों से नवरात्रि में शहर की रौनक देखने लायक होती है. जिसे देखने के लिए दूरदराज के लोग पहुंचते हैं. इस बार आयोजन के लिए शासन ने अनेक नियमों व शर्तों के साथ अनुमति दी है.

आरती में केवल पांच लोगों की उपस्थिति

इसमें इस बार मूर्ति 4 फुट की होगी. सुबह व संध्या की आरती पुजारी सहित केवल 5 लोगों के उपस्थिति में होगी, श्रद्धालु पंडाल के मुख्य द्वार से 4 फुट के अंतर से ही मां के दर्शन कर सकेंगे, सुरक्षा की दृष्टि से महाप्रसाद तथा कन्याभोज भी इस बार आयोजित नहीं होगा. वहीं गरबा, डांडिया व अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होंगे. इसके स्थान पर स्वास्थ्य विषयक कार्यक्रमों में रक्तदान, स्वास्थ्य जांच शिविर के माध्यम से जनजागृति की जाएगी.