Mayawati

    लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) की सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने सोमवार को घोषणा की कि उनकी पार्टी चार प्रदेशों तमिलनाडु (Tamil Nadu), केरल, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी में बिना किसी से गठबंधन किये अकेले विधानसभा चुनाव लड़ेगी। साथ ही उन्होंने कहा कि भविष्य में भी बसपा किसी दूसरे दल के साथ गठबंधन कर चुनाव नहीं लड़ेगी। हालांकि, उन्होंने असम में हो रहे विधानसभा चुनाव के बारे में अपनी पार्टी की स्थिति स्पष्ट नहीं की।

    मायावती ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी 2022 में उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव भी अकेले लड़ेगी और आगामी पंचायत चुनावों में बेहतर प्रदर्शन करेगी। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने सोमवार को पार्टी के संस्थापक कांशीराम की 87वीं जयंती पर उनको याद किया। इस अवसर पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी का किसी के साथ भी गठबंधन का अनुभव अच्छा नहीं रहा। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी के नेता तथा कार्यकर्ता और हमारे वोटर बेहद अनुशासित हैं, जबकि देश की अन्य पार्टियों के साथ ऐसा नहीं है।   

    उन्होंने कहा, ”हमारी पार्टी पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु व पुडुचेरी में अकेले चुनाव लड़ेगी ।”उन्होंने कहा कि किसी के साथ भी गठबंधन में हमारा वोट तो उस पार्टी को ट्रांसफर हो जाता है, जबकि दूसरी पार्टी का वोट हमको नहीं मिल पाता है। यह बेहद ही खराब तथा कड़वा अनुभव है। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी हम किसी भी दल के साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगे।   

    बसपा सुप्रीमो ने केंद्र सरकार से कृषि से जुड़े तीनों कानून वापस लेने की मांग एक बार फिर दोहराई। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन में मृतक किसानों के परिजन को उचित आर्थिक सहायता व एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए। कांशीराम की जयंती पर मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी बाबा साहेब डॉ. भीमराम अम्बेडकर तथा कांशीराम के दिखाए रास्ते पर चल रही है। उन्होंने कहा कि बसपा ही गरीबों व वंचितों की सेवा में लगी है।